झारखंड: लालू के नाम पर राजनीति जारी, सुविधा देने के नाम पर BJP-RJD में भिड़ंत

चारा घोटाले में सज़ायाफ्ता लालू प्रसाद भले ही खुली हवा में सांस नहीं ले रहे हों लेकिन उनके नाम पर राजनीति खूब हो रही है। बेहतर इलाज के लिए राजद अध्यक्ष को झारखंड के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स में रखा गया है।

LALU YADAV

झारखंड: लालू के नाम पर राजनीति जारी, सुविधा देने के नाम पर BJP-RJD में भिड़ंत

रांची: चारा घोटाले में सज़ायाफ्ता लालू प्रसाद भले ही खुली हवा में सांस नहीं ले रहे हों लेकिन उनके नाम पर राजनीति खूब हो रही है। बेहतर इलाज के लिए राजद अध्यक्ष को झारखंड के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स में रखा गया है। पेइंग वार्ड में इलाजरत लालू प्रसाद अपर सेल के कैदी होने के नाते कई सुविधाओं का उपभोग कर रहे हैं। लिहाज़ा, इसे लेकर सत्ताधारी राजद और प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा आमने-सामने है। बीजेपी जहां लालू को दोबारा होटवार जेल भेजने के पक्ष में है तो वहीं आरजेडी लालू को बढ़ती उम्र और राष्ट्रीय नेता होने के नाते अतिरिक्त सुविधाओं की मांग कर रहा है।

ये भी पढ़ें: बढ़ने वाली है ठंड: इस दिन से सर्द होगा मौसम, ठिठुरने को हो जाएंगे मजबूर

लालू के लिए अतिरिक्त सुविधा की मांग

हार्ट, किडनी, शूगर समेत कई गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लालू प्रसाद को रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती कराया गया है। जेल मैनुअल के मुताबिक अपर सेल कैदी होने के नाते लालू प्रसाद को 02 सेवादार रखने की अनुमति है। हालांकि, आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद 04 सेवादार रखे हुए हैं। राजद की प्रदेश प्रवक्ता अनीता यादव कहती हैं कि, आरजेडी ने कभी भी कानून का उल्लंघन नहीं किया है। जेल मैनुअल के मुताबिक लालू प्रसाद का व्यवहार रहा है। बढ़ती उम्र और एक राष्ट्रीय नेता की छवि होने के नाते लालू को अतिरिक्त सुविधाएं दी जाएं। अनीता यादव ने कहा कि, लालू प्रसाद जनता के बीच काफी लोकप्रिय हैं। उन्होने आम जनों के लिए काफी कुछ किया है। लिहाज़ा, जेल के अंदर उन्हे सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं।

सुविधाओं के ख़िलाफ़ भाजपा

झारखंड की प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा लालू को होटवार जेल से रिम्स शिफ्ट किए जाने का विरोध करती रही है। पार्टी का मानना है कि, लालू जेल मैनुअल का लगातार उल्लंघन करते आए हैं। लिहाज़ा, उन्हे मिलने वाली सुविधाओं को हटाया जाए और दोबारा होटवार जेल भेजा जाए। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता प्रदीप सिन्हा की मानें तो लालू को पहले से चिकित्सीय सुविधा मिलने के साथ ही उन्हे सेवादार रखने की भी इजाज़त है। ऐसे में अतिरिक्त सुविधाओं की मांग करना जायज़ नहीं है। उन्होने कहा कि, ये सिर्फ अपने नेता को खुश करने के लिए राजद की ओर से दिया गया बयान है।

लालू के पास सेवादार

जेल मैनुअल के मुताबिक अपर सेल के क़ैदी को 02 सेवादार देने का प्रावधान है। हालांकि, लालू पर आरोप है कि, वे 04 सेवादार को रखे हुए हैं। तीन सेवादार लालू की ख़िदमत के लिए हैं जबकि, एक सेवादार खाद्य सामाग्री लाने-ले जाने के लिए है। लालू के फॉन कॉल विवाद सामने आने के बाद पता चला कि, राजद अध्यक्ष के सेवादार इरफान अंसारी के फोन से ही आरजेडी सुप्रीमो ने भाजपा विधायक ललन पासवान से बात की थी। हालांकि, आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।

ये भी पढ़ें: लालू की जेल: मैनुअल के उल्लंघन में जेल अधीक्षक का खुलासा, रिपोर्ट दबाने की कोशिश

विवाद सामने आने के बाद से ही सेवादार इरफान अंसारी रिम्स परिसर में दिखाई नहीं देते हैं। उनका फोन नंबर भी बंद रहता है। ऐसे में शक़ और भी गहरा हो जाता है। बहरहाल, लालू को मिलने वाली सुविधाओं को लेकर राजनीति चरम पर है। इस बीच लालू के जेल मैनुअल उल्लंघन के बाबत जांच रिपोर्ट पर भी सिसायत शुरू हो
गई है।

रांची से शाहनवाज़ की रिपोर्ट

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App