चुनाव बाद सर्वे : त्रिपुरा, नगालैण्ड में भारतीय जनता पार्टी की सरकार

अगरतला। नगालैण्ड और मेघालय में 27 फरवरी को मतदान संपन्न हुआ। इससे पहले 18 फरवरी को त्रिपुरा में मतदान हुआ था। एग्जिट पोल बता रहे हैं कि त्रिपुरा में दशकों पुराना वाम शासन समाप्त होने वाला है यहां भाजपा का परचम लहराने को है। इसी प्रकार नगालैण्ड में भी भाजपा गठबंधन आगे है।

त्रिपुरा में भाजपा को 31 से 35 सीटें, सीपीएम को 14 से 23 तथा अन्य को 1 सीट मिलने की संभावना है। एग्टि पोल के अनुसार कांग्रेस को एक भी सीट मिलने की उम्मीद नहीं है। वहीं, एक्सिस माई इंडिया ने भाजपा गठबंधन को 44 से 50 तथा सीपीएम को 9 से 15 सीटें मिलने की संभावना जताई है।

नगालैण्ड में भाजपा व सहयोगी एनडीपीपी को 27 से 32, एनपीएफ को 20 से 25, कांग्रेस को 0 से 2 तथा अन्य को 5 से 7 सीटें मिलने की संभावना व्यक्त की गई है। भाजपा व एनडीपीपी का वोट शेयर 48 फीसदी बताया गया है।
मेघालय में भाजपा को 8 से 12, एनपीपी को 23 से 27, कांग्रेस को 13 से 17 तथा अन्य को 02 से 06 सीटें मिलने की संभावना है।

नगालैंड में करोड़पति प्रत्याशी

नगालैंड में एडीआर के विश्लेषण में यह खुलासा हुआ है कि राज्य के 59 प्रतिशत प्रत्याशियों की संपत्ति एक करोड़ से ऊपर है। इसमें लगातार वृद्धि हो रही है यह दर 2008 में 28 फीसद थी और 2013 में 46 फीसद। यह विश्लेषण 196 प्रत्याशियों में से 193 के हलफनामे के आधार पर किया गया है। जबकि तीन का ब्योरा अस्पष्ट रहा है।

नगालैंड इलेक्शन वाच ने अपने विश्लेषण में 193 प्रत्याशियों में से 114 को करोड़पति पाया। इसमें एनपीएफ के 56 प्रत्याशियों में 43, एनडीपीपी के 39 प्रत्याशियों में 24, भाजपा के बीस में से 13, एनपीपी के 25 में 12, जदयू के 13 में सात और कांग्रेस के 18 में छह प्रत्याशी शामिल हैं। इनमें भी 2008 में 211 प्रत्याशियों में 58 और 2013 में 187 प्रत्याशियों में 85 ऐसे प्रत्याशी शामिल हैं जो करोड़पति थे।

तीन सबसे धनी प्रत्याशियों की रेस में भाजपा एडीपीपी गठजोड़ के दो वरिष्ठ नेता शामिल हैं। इनमें अतोइजू से चुनाव लड़ रहे भाजपा नेता के एल चिशी ने अपनी संपत्ति 38.20 करोड़ घोषित की है। जबकि एनडीपीपी के मुख्यमंत्री पद के चेहरे नेफियू रिओ की संपत्ति 36.41 करोड़ है। वोखा से चुनाव लड़ रहे जदयू के रामोंगो लोथा की संपत्ति संपत्ति सबसे अधिक 38.92 करोड़ है।

इस चुनाव में 25 से 30 साल की उम्र के बीच के सिर्फ सात प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं जबकि बहुमत 50 से 70 साल के लोगों का है। जिनकी संख्या 118 है। इस चुनाव में पांच महिलाएं मैदान में हैं। महिलाओं की यह संख्या सबसे ज्यादा है राज्य में कभी भी इतनी बड़ी संख्या में महिलाएं चुनाव नहीं लड़ीं।

केवल तीन प्रत्याशियों ने अपना आपराधिक रिकार्ड घोषित किया है। इनमें भाजपा के टिकट पर सेयोचुंग से चुनाव लड़ रहे काशिहो संघथमा, एनपीएफ के ओंगलोंडेन से चुनाव लड़ रहे तोशिपोखबा और फुत्सेरो से चुनाव लड़ रहे एनडीपीपी के नेइबा क्रोनू शामिल हैं। इनके विरुद्ध धोखाधड़ी, आपराधिक विश्वासघात, लोकसेवक से धोखाधड़ी, गलतबयानी और धमकी देने के मामले दर्ज हैं।

मेघालय चुनाव में 25 दागी प्रत्याशी

मेघालय में चुनाव लड़ रहे 370 प्रत्याशियों में 25 के खिलाफ आपराधिक मामले है। प्रत्याशियों द्वारा स्वघोषित एफिडेविट के आधार पर मेघालय इलेक्शन वाय ने एडीआर के साथ किये विश्लेषण में पाया कि इनमें 21 के विरुद्ध गंभीर प्रकार के आपराधिक मामले हैं। जीएनसी के एक प्रत्याशी निकमन सीएच. मराक के खिलाफ हत्या का मामला है। जबकि तीन अन्य प्रत्याशियों के विरुद्ध हत्या के प्रयास जैसे मामले हैं। इसके अलावा तीन के खिलाफ महिलाओं के विरुद्ध बलात्कार जैसे मामले हैं।

इन प्रत्याशियों में से चार जिनके खिलाफ आपराधिक मामले हैं भाजपा से हैं। चार यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी से हैं। तीन नेशनल पीपुल्स पार्टी से हैं। जबकि तीन मेघालय राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से हैं। एक एक प्रत्याशी कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और आल इंडिया तृणमूल पार्टी से है।

इसके अलावा साउथ तुरा और विलियम नगर रेड अलर्ट वाले विधानसभा क्षेत्रों में शामिल हैं। ये वह विधानसभा क्षेत्र हैं जहां तीन या उससे अधिक आपराधिक छवि वाले प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं। हलफनामे में 151 प्रत्याशियों ने अपनी शैक्षिक योग्यता पांचवीं या 12वीं पास घोषित की है। जबकि 208 प्रत्याशियों ने खुद को स्नातक या इसमें अधिक शिक्षित बताया है। प्रत्याशियों में एक सिर्फ साक्षर है।

244 प्रत्याशियों ने अपनी उम्र 25 से 50 के बीच बतायी है जबकि 126 प्रत्याशी 51 से 80 वर्ष के बीच हैं। 33 महिलाएं इस बार चुनाव मैदान में किस्मत आजमा रही हैं। 370 प्रत्याशियों में 152 करोड़पति हैं। जो कि कुल प्रत्याशियों का 41 फीसदी है।

मेघालय में चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों की औसत संपत्ति 3.54 करोड़ है। मेघालय में तीन प्रत्याशी जिनकी सर्वाधिक संपत्ति है। उनमें उमरोई से चुनाव लड़ रहे एनपीपी प्रत्याशी नगेटलांग धार 295 करोड़ की संपत्ति के साथ पहले नंबर हैं। 87 करोड़ की संपत्ति के साथ मेरांग से चुनाव लड़ रहे यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी के मेटबाह लिंगदोह दूसरे नंबर पर हैं तथा जिरांग से चुनाव लड़ रहे पीडीएफ के लमबोकलांग मिलिएम 49 करोड़ की संपत्ति के साथ तीसरे नंबर पर हैं।