×

SC का बैन असफल, दिल्ली की निकली दिवाली, 9 गुना से ज़्यादा प्रदूषण दर्ज

suman

sumanBy suman

Published on 20 Oct 2017 2:38 AM GMT

SC का बैन असफल, दिल्ली की निकली दिवाली, 9 गुना से ज़्यादा प्रदूषण दर्ज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: दिल्ली में दिवाली पर पटाखे ना फोड़ने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लोगों ने ताख पर रखकर इतनी आतिशबाजी की, कि एक बार फिर दिल्ली धुआंधार हो गई है। रात भर दिल्ली-एनसीआर के लोगों ने जमकर आतिशबाजी की जिसके बाद एक बार फिर खुली हवा में सांस लेना दुशवार हो गया है एक तरह से लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर की धज्जियां उड़ाई। दिल्ली में जमकर पटाखे फोड़े गए।राजधानी में जमकर हुई आतिशबाजी से धुएं के गुब्बार और धुंध में एक बार फिर दिल्ली सिमट गई है।

सुप्रीम कोर्ट की ओर से बैन लगाने के बाद दिल्ली-एनसीआर में इस साल कम पटाखे चले। इसके बाद भी एयर क्वालिटी बेहद खराब (very poor) कैटेगरी में रही। शहर के पॉल्यूशन पर नजर रखने वाले स्टेशनों में पॉल्यूशन को रिकॉर्ड करने वाले ऑनलाइन इंडीकेटर्स रात से ही रेड सिग्नल देने लगे। उधर, सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड (CPCB) ने कहा है कि हालात पिछले साल से बेहतर हैं। बता दें कि पिछले साल दिवाली के दिन (30 अक्टूबर को) एयर पॉल्यूशन का लेवल 431 और अगले दिन 445 था। इस बार यह दिवाली के दिन 319 और अगले दिन 453 दर्ज किया गया।

यह भी पढ़ें...दिल्ली-NCR में पटाखो पर बैन का मामला, फायरक्रैकर एसोसिएशन ने दी SC में अर्जी

दिल्ली-एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट के पटाखों पर बैन के बावजूद प्रदूषण का स्तर कम होता दिखाई नहीं दे रहा है यहां प्रदूषण का स्तर सामान्य से 12 गुना तक ज्यादा हो चुका है। दक्षिणी दिल्ली के आरके पुरम जैसे पॉश इलाके में प्रदूषण का स्तर पीएम 2.5 में लगभग 12 गुना तक गिरावट दर्ज की गई है। आरके पुरम के अलावा आनंद विहार, शाहदरा, वजीरपुर, अशोक विहार और श्रीनिवासपुरी जैसे इलाकों में भी प्रदूषण का स्तर सामान्य से कई गुना ज्यादा पहुंच गया है। ये आंकड़े रात करीब 10:00 बजे तक के हैं। जानकारों की मानें तो यह आंकड़ा सुबह तक इससे कहीं और ज्यादा होने की उम्मीद है।

दिवाली से पहले ही दिल्ली में सामान्य से 9 गुना ज्यादा प्रदूषण दर्ज किया गया है। दिल्ली के श्रीनिवासपुरी, वजीरपुर, करणी सिंह स्टेडियम, ध्यानचंद हॉकी स्टेडियम, जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम, ITI जहांगीरपुरी, आनंद विहार बस अड्डा, मंदिर मार्ग, पंजाबी बाग और आरके पुरम में प्रदूषण चैक किया गया। जिसमें काफी चौंकाने वाले रिजल्ट सामने आए हैं।दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल कमेटी द्वारा दिए गए आंकड़ों के अनुसार वजीरपुर की हवा दिल्ली में सबसे ज्यादा प्रदूषित है। वहीं प्रदूषण के मामले में दूसरे नंबर पर आनंद विहार का बस अड्डे आता है। दिल्ले के पॉश इलाकों की हालत भी ठीक नहीं है। दिल्ली के पॉश इलाकों में वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से लगभग सात गुना तक ज्यादा है।

यह भी पढ़ें..तेज आवाज वाले पटाखों की बिक्री पर लगी रोक, डीएम ने जारी की गाइडलाइंस

इस तरह प्रदूषण की रोकथाम के लिए केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) की 40 गश्ती टीमें अपनी रिपोर्ट तो दे रही हैं, लेकिन उन पर ठीक से ऐक्शन नहीं हो पा रहा है। ऐसे में दिवाली पर पटाखों की हुई बिक्री पर बैन और छोड़े गए पटाखो के बाद यहां अब प्रदूषण से बहुत राहत मिलने की उम्मीद नहीं की जा सकती है।

suman

suman

Next Story