प्रोफेशनल कोर्स : एप डवलपर-तेजी से उभरता हुआ कॅरियर, ऐसे करें तैयारी

जिस तेजी से मोबाइल और इन्टरनेट का बाजार बढ़ता जा रहा है उसी तेजी से मोबाइल एप्लीकेशंस की मांग बढ़ती जा रही है। इस दौर में अगर किसी प्रोफेशनल्स की अधिक मांग बढ़ रही है तो वो हैं एप डेवलपर्स। यह एक बेहतरीन बिजनेस टूल भी बनकर उभरा है। वर्तमान में सभी कम्पनियां अपना कारोबार एप्स पर फोकस कर रही हैं, ताकि लोगों तक सीधी पहुंच बनाई जा सके। ऐसे में एप डेवलपर्स के तौर पर कॅरियर बनाने के लिए सुनहरा मौका है। इसमें बेहतर काम करने वालों को कम एक्सपीरियंस के बाद भी अच्छी सैलरी मिल रही है।

क्या है एप डवलपमेंट

एप्स हमारे जीवन के हर पल को तेजी से प्रभावित कर रहे हैं। मोबाइल फोन, टैबलेट, स्मार्टवॉचेज या डिजिटल असिस्टेंट्स जैसे डिवाइसेज के लिए एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर क्रिएट करने की प्रक्रिया को मोबाइल एप्लीकेशन डवलपमेंट कहते हैं। जैसे इन दिनों फेसबुक, ट्विटर जैसे सोशल साइट्स और गेम्स के अलावा शॉपिंग या सर्विस में भी एप्स का खूब इस्तेमाल हो रहा है। इन एप्स को मैन्युफैक्चरिंग के समय प्री-इंस्टॉल या कस्टमर द्वारा डाउनलोड किया जा सकता है। इन एप्स की मदद से लोगों के जीने का तरीका तेजी से बदल रहा है।

एप डेवलपर के लिए जरूरी स्किल्स

एक एप डेवलपर को कंप्यूटर और प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में रुचि होने के साथ ही वैप, एक्सएमएल, वीएक्सएमएल, वीटीए, ब्राउजर्स (डब्ल्यूएमएल, एक्सएचटी एमएल), क्लाइंट्स (एसएमएम, ई-मेल, चैट आदि) और स्टैक्स (वैप 2.0 और टीसीपी/आईपी) आदि की जानकारी भी जरूरी है। इसके अलावा कंप्यूटर लैंग्वेज सी, सी++, ऑब्जोक्टिव सी की जरूरत आईओएस (आईफोन, आईपैड) या जावा (एंड्रॉयड, ब्लैबेरी ओएस) के लिए पड़ती है।

एप डेवलपर के लिए ये कोर्स

अगर आप बारहवीं में पीसीएम के साथ कंप्यूटर में पास है तो इसके बाद इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीटेक या एमसीए कर सकते हैं। इसमें कंप्यूटर लैंग्वेज सी, सी++, ऑब्जोक्टिव सी की जरूरत आईओएस (आईफोन, आईपैड) या जावा (एंड्रॉयड, ब्लैबेरी ओएस) के लिए पड़ती है। इसलिए सी, सी++ और ऑब्जेक्टिव सी जैसी प्रोग्रोमिंग लैंग्वेज में प्रोफीशिएंसी जरूरी है। एप डेवलपिंग कोर्स में आपको यूआई डिजाइन के बेसिक्स सिखाए जाते हैं। आप किसी एक ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए एप डेवलपिंग में स्पेशलाजेशन भी कर सकते हैं। इसके लिए कुछ शार्ट टर्म एंड डिप्लोमा कोर्स भी हैं जो आप कर सकते हैं।

5-6 लाख होती है कमाई

मल्टी नेशनल सॉफ्टवेयर कंपनी में शुरुआत में सालाना पैकेज 5-6 लाख रुपये का होता है। इसके बाद जैसे-जैसे आपका अनुभव बढ़ता जाता है, वैसे-वैसे आपका सालाना पैकेज भी बढ़ता जाता है। आपको विदेश में काम करने का मौका भी मिल सकता है। इस फील्ड में कड़ी मेहनत की जरूरत होती है. कई बार विशेष प्रोजेक्ट मिलने पर आपको दिन रात भी मेहनत करनी पड़ सकती है।

जॉब्स के अवसर

अगर हम जॉब्स के अवसर की बात करें तो पहले केवल प्राइवेट कंपनियों में ही जॉब्स मिलते थे लेकिन अब सरकारी संस्थानों में भी एप डेवलपर की जरूरत पडऩे लगी गई। आप अच्छे एप डेवलपर है तो आप घर बैठे भी महीने में लाखों कमा सकते हैं।