×

पुलवामा हमले पर सर्वदलीय बैठक खत्म, सभी दल बोले- आतंकवाद के खिलाफ एकसाथ

पुलवामा की शहादत पर पूरा देश में आक्रोश है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना से कहा है कि वह बदला लेने के लिए जगह और वक्त अपने हिसाब से तय कर ले। इस बीच दहशतगर्दी की इस नापाक करतूत का किस अंदाज में जवाब दिया जाए, इसे लेकर सरकार ने आज  सभी पार्टियों की बैठक बुलाई थी। जो अब खत्म हो चुकी है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 16 Feb 2019 3:35 AM GMT

पुलवामा हमले पर सर्वदलीय बैठक खत्म, सभी दल बोले- आतंकवाद के खिलाफ एकसाथ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: पुलवामा की शहादत पर पूरा देश में आक्रोश है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना से कहा है कि वह बदला लेने के लिए जगह और वक्त अपने हिसाब से तय कर ले। इस बीच दहशतगर्दी की इस नापाक करतूत का किस अंदाज में जवाब दिया जाए, इसे लेकर सरकार ने आज सभी पार्टियों की बैठक बुलाई थी।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में शनिवार को दिल्ली में संसद भवन में यह बैठक बुलाई गई। इस बैठक में कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों के नेता सदन शामिल हुए। बैठक के बाद नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि लोकसभा और राज्यसभा में राजनीतिक दलों के नेताओं की बैठक बुलाई गई। जिसमें सभी दलों के नेताओं ने यह आश्वासन दिया कि वह देश और सरकार के साथ खड़े हैं।

उन्होंने बताया कि बैठक में एक प्रस्ताव भी सर्वसम्मति से पास किया गया। साथ ही यह बताया कि बैठक में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आतंकवाद की यह हरकत कायराना है और जम्मू कश्मीर से आतंक खत्म करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। बैठक में राजनाथ सिंह ने कहा कि कश्मीर की जनता अमन चाहती है और वह हमारे साथ खड़ी है।

वहीं, दूसरी तरफ बैठक के बाद गुलाम नबी आजाद ने बताया कि हमने गृहमंत्री से आग्रह किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों के अध्यक्षों की बैठक बुलाएं और उनके साथ विचार विमर्श करना चाहिए। हमारी इस मांग का बाकी दलों ने भी समर्थन किया। गुलाम नबी ने बताया कि पूरी कांग्रेस पार्टी आतंकवाद का खात्मा करने के लिए मजबूती के साथ जवानों के साथ खड़ी है।

मीटिंग में ये नेता रहे मौजूद

गृहमंत्री राजनाथ सिंह के अलावा इस बैठक में गृह सचिव राजीव गौबा, बीएसपी नेता सतीश चंद्र मिश्रा, आरजेडी नेता जेपी यादव, सीपीएम नेता टी के रंगराजन, फारुख अब्दुल्ला, के वेणुगोपाल, टीआरएस के जितेंद्र रेड्डी, राम मोहन नायडू, गुलाम नबी आजाद, चन्दू माजरा, नरेश गुजराल, टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन, सुदीप बंधोपाध्याय, एनसीपी नेता शरद पवार, आनंद शर्मा, आप नेता संजय सिंह, शिवसेना नेता संजय राउत, ज्योतिरादित्य सिंधिया, आरएलएसपी नेता उपेंद्र कुशवाहा शामिल हुए। बैठक में CRPF के ADG भी पहुंचे थे।



शुक्रवार को सीसीएस की बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इसकी जानकारी दी थी कि गृहमंत्री राजनाथ सिंह सभी दलों के साथ बैठक करेंगे। जिसके बाद आज मीटिंग बुलाई गई है।

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बाकायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर देश को यह बताया था कि कांग्रेस पार्टी समेत पूरा विपक्ष सरकार और सेना के साथ है।

मीटिंग से पहले गुलाम नबी आजाद ने बताया कि हम सब सुरक्षाबलों के साथ खड़े हैं. लेकिन मीटिंग में क्या होने वाला है, इसकी उन्हें अभी कोई जानकारी नहीं है। आजाद ने स्पष्ट कहा कि उनकी पार्टी आतंकवाद से लड़ने के लिए सरकार का समर्थन करेगी। उन्होंने कहा कि यह बातचीत का वक्त नहीं है और ऐसा करना बेवकूफी होगी।



ये भी पढ़ें...पुलवामा हमले पर बोले पीयूष गोयल, देंगे मुहतोड़ जवाब, नहीं झूकेगा देश

पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त अजय बिसारिया को दिल्ली बुलाया गया

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान स्थित अपने उच्चायुक्त को बुलाया है। पुलवामा में अटैक के मद्देनजर भारत हाई कमिश्नर अजय बिसारिया को दिल्ली बुलाया है। यही नहीं पुलवामा हमले के गुनहगारों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्पष्ट चेतावनी के बाद विदेश सचिव ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त को तलब कर गहरा विरोध दर्ज कराया है।

शुक्रवार को दोपहर करीब 2 बजे विदेश सचिव विजय गोखले ने भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त सोहेल महमूद को तलब किया। सूत्रों के मुताबिक विदेश सचिव ने पुलवामा में आतंकी हमले से जुड़ा एक कड़ा विरोध दर्ज कराया।

ये भी पढ़ें...पुलवामा घटना से सदन आहत: सबने दी श्रद्धांजलि,25-25 लाख की अनुग्रह राशि-नौकरी का एलान

सूत्रों ने बताया है कि विदेश सचिव ने पाकिस्तान से साफ कहा कि उसे जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ तत्काल और ठोस कार्रवाई करनी चाहिए। भारत ने पाकिस्तान से यह भी कहा है कि उसे फौरन अपनी सरजमीं से संचालित समूहों या उन व्यक्तियों पर लगाम लगानी चाहिए जो आतंकी गतिविधियों में शामिल हैं। विदेश सचिव ने एक दिन पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के बयान को भी खारिज कर दिया।

ये भी पढ़ें...मायावती ने की पुलवामा हमले की निंदा, पीएम मोदी से की ये गुजारिश

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story