Top

सर्वे : स्थानीय शासन के मामले में पुणे सबसे बेहतर, बेंगलुरू सबसे खराब शहर

raghvendra

raghvendraBy raghvendra

Published on 16 March 2018 12:15 PM GMT

सर्वे : स्थानीय शासन के मामले में पुणे सबसे बेहतर, बेंगलुरू सबसे खराब शहर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। स्थानीय शासन के मामले में पुणे सबसे बेहतर और बेंगलुरू सबसे खराब शहर है। देश भर में 23 शहरों में कराए गए एक नए सर्वे में दिल्ली को छठा स्थान मिला है। जनाग्रह सेंटर फोर सिटीजनशिप एंड डेमोक्रेसी (जेसीसीडी) द्वारा 2017 के लिए भारत की शहर प्रणाली के वार्षिक सर्वेक्षण के मुताबिक, पहले स्थान पर पुणे (5.1), दूसरे पर कोलकाता, तीसरे पर तिरूवनंतपुरम, चौथे पर भुवनेश्वर और फिर सूरत का नाम है।

ये भी पढ़ें... OMG : यूट्यूब पर भी फर्जी खबरों और अफवाहों की भरमार

अध्ययन में शासन की गुणवत्ता का आकलन 20 राज्यों में 23 बड़े शहरों में शहरी स्थानीय निकायों की कार्यप्रणाली के जरिए किया गया। शहरों को 10 में 3.0 और 5.1 के बीच अंक दिए गए। सर्वेक्षण में दूसरे देशों में शासन पर गौर करते हुए व्याख्या की गई कि बड़े शहरों की तुलना में भारत के महानगर का क्या स्थान है।

दक्षिण अफ्रीका में जोहानिसबर्ग, ब्रिटेन में लंदन और अमेरिका में न्यूयार्क ने क्रमश: 7.6, 8.8 और 8.8 अंक प्राप्त किए। रिपोर्ट में कहा गया है कि रैंकिंग में ऊंचे स्थान से दीर्घावधि में गुणवत्तापूर्ण आधारभूत संरचना और सेवा आपूर्ति की संभावना है।

रैंकिग के हिसाब से 23 शहर

पुणे, कोलकाता, तिरुवनंतपुरम, भुवनेश्वर, सूरत, दिल्ली, अहमदाबाद, हैदराबाद, मुंबई, रांची, कानपुर, लखनऊ, गुवाहाटी, भोपाल, लुधियाना, विशाखापत्तनम, जयपुर, चेन्नई, पटना, देहरादून, चंडीगढ़, बंगलुरु।

raghvendra

raghvendra

राघवेंद्र प्रसाद मिश्र जो पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के बाद एक छोटे से संस्थान से अपने कॅरियर की शुरुआत की और बाद में रायपुर से प्रकाशित दैनिक हरिभूमि व भाष्कर जैसे अखबारों में काम करने का मौका मिला। राघवेंद्र को रिपोर्टिंग व एडिटिंग का 10 साल का अनुभव है। इस दौरान इनकी कई स्टोरी व लेख छोटे बड़े अखबार व पोर्टलों में छपी, जिसकी काफी चर्चा भी हुई।

Next Story