×

Russia vs Ukraine War : यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में पुतिन ने रिज़र्व सैनिकों को झोंका

रूस यूक्रेन युद्ध में अब और तेजी आने वाली है क्योंकि रूस ने युद्ध में पूरी ताकत झोंकने का इरादा साफ कर दिया है।

Neel Mani Lal
Updated on: 21 Sep 2022 8:11 AM GMT
व्लादिमीर पुतिन
X

व्लादिमीर पुतिन (Pic : Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Russia vs Ukraine War : रूस यूक्रेन युद्ध में अब और तेजी आने वाली है क्योंकि रूस ने युद्ध में पूरी ताकत झोंकने का इरादा साफ कर दिया है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने आज तत्काल प्रभाव से आंशिक सैन्य जुटान की घोषणा की और परमाणु हथियारों को तैनात करने की भी धमकी दी।

राज्य टीवी पर प्रसारित एक पूर्व-रिकॉर्ड किए गए संबोधन में पुतिन ने कहा कि वह यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में सहायता के लिए रिज़र्व सैनिकों को बुला रहे हैं लेकिन फिलहाल अनिवार्य सैन्य ड्यूटी लागू नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि, पहले प्रशिक्षण और अनुभव वाले रिज़र्व सैनिकों को मोर्चों पर सेवा करने के लिए बुलाया जाएगा।

पुतिन ने यह भी कहा कि रूस उन सभी क्रेमलिन समर्थित शासनों के लिए "एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करने के लिए सब कुछ करेगा", जिन्होंने मंगलवार को रूसी संघ में शामिल होने पर जनमत संग्रह करने का वादा किया था।

पुतिन ने परमाणु हथियारों का नाम लिए बगैर कहा कि - "रूस और हमारे लोगों की रक्षा करने के लिए, हम निस्संदेह अपने सभी संसाधनों का उपयोग करेंगे और ये एक झांसा नहीं है।"

माना जाता है कि रूस के पास 20 लाख से अधिक रिज़र्व सैनिक हैं, लेकिन इनमें से कुछ को ही नियमित रूप से रिफ्रेशर प्रशिक्षण प्राप्त होता है। आंशिक मोबिलाइजेशन आदेश से करीब 300,000 पूर्व सक्रिय इकाइयों को जमा किये जाने की उम्मीद है, जिन्हें यूक्रेन के खिलाफ कार्रवाई में भेजा जाएगा।

रूस का इरादा यूक्रेन के चार क्षेत्रों को अपने में मिलाने का है। इन क्षेत्रों ने इस संबंध में जनमत संग्रह का ऐलान किया है। जनमत संग्रह शुक्रवार को लुहानस्क और डोनेट्स्क और दक्षिणी खेर्सन और ज़ापोरिज़हिया और डोनेट्स्क के पूर्वी डोनबास क्षेत्रों में शुरू होगा।

अपने भाषण में, पुतिन ने यूक्रेन के खिलाफ रूस के पूर्ण आक्रमण की बात नहीं की। उन्होंने इस संघर्ष के लिए पश्चिम में दोष दिया, और कहा कि मास्को "पूरे पश्चिमी सैन्य परिसर" से लड़ रहा है और यूक्रेन की कमान प्रभावी रूप से इसके पश्चिमी सलाहकारों के हाथों में है। उन्होंने दावा किया कि रूस से लड़ाई करने के लिए "वाशिंगटन, ब्रुसेल्स और लंदन सीधे यूक्रेन को उकसाते हैं।"

पुतिन ने पश्चिमी देशों के "परमाणु ब्लैकमेल" में संलग्न होने का आरोप लगाया।

Jugul Kishor

Jugul Kishor

Next Story