×

तेलंगाना में पहले केसीआर को हराएंगे, फिर 2019 में मोदी को हराएंगे: राहुल

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 28 Nov 2018 6:51 AM GMT

तेलंगाना में पहले केसीआर को हराएंगे, फिर 2019 में मोदी को हराएंगे: राहुल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

हैदराबाद: तेलंगाना की सियासी जंग फतह करने के लिए कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है। इस कड़ी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ताबडतोड़ रैली कर रहे हैं। तेलंगाना विधानसभा चुनाव में बुद्धवार को कांग्रेस अध्यक्ष ने टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू के साथ मंच साझा किया।

सिर्फ एक परिवार को ही मिला फायदा

रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि केसीआर ने वंशवाद की राजनीति की और उनकी सरकार का फायदा सिर्फ एक परिवार को ही मिला। राहुल ने कहा कि अगर हम सत्ता में आए तो हम गरीबों को घर देंगे। हम एक लाख लोगों को रोजगार देंगे। राहुल गांधी ने कहा कि केसीआर की सरकार ने घर देने का वादा किया था जिसे पूरा नहीं किया।

यह भी पढ़े....राहुल गांधी ने ब्रह्मा मंदिर में बताया अपना गोत्र, दरगाह में चादर चढ़ाई

तेलंगाना में चल रही कांग्रेस की हवा

हैदराबाद में रैली में राहुल गांधी ने कहा कि तेलंगाना में तेजी से हवा चल रही है। ये हवा कांग्रेस पार्टी और हमारे सहयोगी दलों की हवा है और केसीआर को तेलंगाना के मुख्यमंत्री पद से हटाने वाली हवा है। पहले हम केसीआर जी को यहां पर हरायेंगे फिर दिल्ली में 2019 में नरेन्द्र मोदी जी को हराएंगे।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि टीआरएस का नाम तेलंगाना राष्ट्र समिति नहीं, बल्कि तेलंगाना राष्ट्र संघ परिवार है। ये संघ परिवार, बीजेपी की बी टीम है, ये बात आप मत भूलिए। वहीं, पहले साल में हमारी कोशिश होगी कि 1 लाख युवाओं को सरकारी और प्राईवेट नौकरी दी जाए।

यह भी पढ़े....कई मंत्रियों संग अमेठी पहुंची स्मृति: केशव ने राहुल के पीएम बनने की बात पर कहा- ये संभव नहीं

देश बांटने का काम करते हैं मोदी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि नरेन्द्र मोदी जी देश को बांटने का काम करते हैं। देश में नफरत फैलाते हैं और जो उन्होंने देश में किया चाहे वो आदिवासी, अल्पसंख्यकों के खिलाफ हों, वो तेलंगाना के मुख्यमंत्री के बिना नहीं कर सकते थे। हमारी गठबंधन की सरकार आपको घर और जमीन देने का काम करेगी। हमारा मुख्यमंत्री दिन भर युवाओं को रोजगार देने का काम करेगा। 3000 रुपये बेरोजगारी भत्ता दिया जायेगा।

यह भी पढ़े....शिवराज का राहुल पर तंज- यह तो ठहरे परदेशी, साथ क्या निभाएंगे

इसी महीने राहुल से मिले थे नायडू

बीजेपी विरोधी मोर्चा बनाने की कोशिशों में लगे नायडू इस महीने की शुरुआत में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से दिल्ली में मिले थे। बता दें कि इससे पहले कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तेलंगाना में रैली की थी। इस रैली में चंद्रबाबू नायडू ने सोनिया गांधी के साथ मंच साझा नहीं किया था।

7 दिसंबर को है चुनाव

तेलंगाना में अगले साल लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव होने थे लेकिन 6 सितंबर को राज्य मंत्रिमंडल की सिफारिश के बाद विधानसभा भंग कर दी गई थी। तेलंगाना में 7 दिसंबर को मतदान होगा और 11 दिसंबर को वोटों की गिनती की जाएगी।

तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस समिति की प्रचार समिति के अध्यक्ष एम भाटी विक्रमार्का ने जनाकारी दी थी कि भाकपा के महासचिव एस सुधाकर रेड्डी और टीजेएस के अध्यक्ष एम कोडानडरम को सभा के लिए आमंत्रित किया जाएगा, जिसमें नायडू और गांधी भी हिस्सा लेंगे।

सभा को ऐतिहासिक बताते हुए तेदेपा नेता एन. नागेश्वर राव ने कहा था कि इस सभा से देशभर में एक संदेश जाएगा।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story