अब रेल मंत्री का ममता सरकार पर बड़ा हमला, मजदूरों के मुद्दे पर लगाया ये आरोप

रेल मंत्री ने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार राज्य के श्रमिकों को वापस लाने के लिए उचित कदम नहीं उठा रही है। उन्होंने कहा कि मेरे कल के बयान के बाद ममता सरकार जगी है और राज्य की ओर से सात श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को चलाने की अनुमति दी गई है।

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली। प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर केंद्र और ममता सरकार के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर और तेज हो गया है। हाल में गृह मंत्रालय ने ममता सरकार को कड़ी चिट्ठी लिखकर कई मुद्दों पर गहरी नाराजगी जताई थी और अब रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी ममता सरकार पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने आरोप लगाया पश्चिम बंगाल सरकार राज्य के मजदूरों के साथ क्रूर मजाक कर रही है।

सिर्फ सात श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को दी अनुमति

रेल मंत्री ने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार राज्य के श्रमिकों को वापस लाने के लिए उचित कदम नहीं उठा रही है। उन्होंने कहा कि मेरे कल के बयान के बाद ममता सरकार जगी है और राज्य की ओर से सात श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को चलाने की अनुमति दी गई है। उन्होंने कहा कि बंगाल के मजदूर काफी संख्या में दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं। ऐसे में सरकार को और अधिक संख्या में ट्रेनों को चलाने की अनुमति देनी चाहिए।

पश्चिम बंगाल के मजदूरों के साथ क्रूर मजाक

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल के मजदूरों की ज्यादा संख्या को देखते हुए रोजाना लगभग 105 ट्रेनें चलाने की जरूरत है। मुझे जानकारी मिली है कि पश्चिम बंगाल की सरकार पूरे एक महीने में 105 ट्रेन चलाने की अनुमति देने जा रही है। पश्चिम बंगाल सरकार का यह कदम राज्य के मजदूरों के साथ क्रूर मजाक है।

ये भी पढ़ेंः देशभर के मंदिरों पर कांग्रेस नेता ने दिया ऐसा बयान, साधु-संतो में उबाल

प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर सियासत गरमाई

दरअसल प्रवासी मजदूरों के लिए ट्रेनें चलाने के मुद्दे पर ममता सरकार अभी तक अड़ियल रुख अपनाए हुए है। शुरुआत में ममता सरकार की ओर से इस बाबत अनुमति नहीं दी गई मगर बाद में दबाव बढ़ता देखकर सीमित संख्या में ट्रेनों के संचालन को अनुमति दी गई है। अब इस मुद्दे को लेकर राजनीति गरमाने लगी है। जानकारों का कहना है कि और श्रमिकों की ट्रेनों को चलाने की अनुमति देना जरूरी है क्योंकि पश्चिम बंगाल के काफी संख्या में मजदूर दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं।

कई दिनों से चल रहा है आरोप प्रत्यारोप का दौर

ममता सरकार और केंद्र सरकार के बीच आरोप-प्रत्यारोप का यह दौर कई दिनों से चल रहा है। पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक में भी ममता बनर्जी ने केंद्र पर हमला बोला था। उनका कहना था एक राज्य के तौर पर कोरोना वायरस से लड़ने में हम अपना बेहतर काम दिखाने में कामयाब हुए हैं। कोरोना संकट की इस मुश्किल घड़ी में केंद्र को भी राजनीति से बाज आना चाहिए। पीएम मोदी के आर्थिक पैकेज के एलान के बाद भी ममता बनर्जी ने कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा था कि इससे लोगों की बदहाली दूर करने में कोई मदद नहीं मिलने वाली है। उन्होंने राज्यों के लिए विशेष आर्थिक पैकेज देने की मांग की थी।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।