Rajasthan : डकैत ‘जगन गुर्जर’ ने पुलिस को फोन कर किया सरेंडर

राजस्थान के चंबल बीहड़ों में आतंक का पर्याय बने कुख्यात डकैत जगन गुर्जर ने शुक्रवार सुबह पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। पिछले 15 दिनों से चंबल के बीहड़ों में डकैत जगन को पकड़ने में नाकाम रही पुलिस जगन को जंगल से लेकर अब धौलपुर पहुंच रही है।

नई दिल्ली : राजस्थान के चंबल बीहड़ों में आतंक का पर्याय बने कुख्यात डकैत जगन गुर्जर ने शुक्रवार सुबह पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। पिछले 15 दिनों से चंबल के बीहड़ों में डकैत जगन को पकड़ने में नाकाम रही पुलिस जगन को जंगल से लेकर अब धौलपुर पहुंच रही है। 40 हजार रुपए का इनामी डकैत जगन के आतंक पर अंकुश लगाने के लिए संसद में भी आवाज उठ चुकी है। सांसद हनुमान बेनीवाल ने तो एनकाउंटर करने की मांग भी कर दी थी। शायद इसी वजह से एनकाउंटर में अपनी जान को खतरा देख जगन गुर्जर ने पुलिस के आगे तीसरी बार आत्म्समर्पण किया है।

यह भी देखें… BRICS देशों की बैठक में पीएम मोदी ने कहा, विकास और पर्यावरण को समावेशी बनाना है

धौलपुर में दस्यु जगन गुर्जर की तलाश में बीहड़ों में पुलिस टीमें लगातार सर्च अभियान छेड़े थी और ऐसे में जगन को अपनी जान का खतरा बना हुआ था। बुधवार रात जगन ने मीडिया संस्थानों में फोन कर बताया कि गुरुवार सुबह वो सरेंडर करने जा रहा है। यह जगन की सोची समझी योजना थी जिसके तहत उसने खुद को सुरक्षित रखते हुए पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया है।

यह भी देखें… G-20 Summit: PM मोदी और ट्रंप बने अच्छेे दोस्त, इन चार अहम मुद्दों पर की बात

इसी महीने जेल से बाहर आए कुख्तात डकैत जगन गुर्जर ने धौलपुर जिले के करनपुर-सायका पुरा गांव में 12 जून को दो महिलाओं से मारपीट कर उन्हें निर्वस्त्र कर दिया था और उन्‍हें पूरे गांव में घुमाया था। तब से पुलिस उसे गिरफ्तार करने के लिए लगातार छापेमारी कर रही है। यही वजह है कि उसने खुद सरेंडर करने का निर्णय लिया है।