Top

राजीव गांधी हत्याकांड: दोषी पेरारिवलन को मिली 30 दिन की पैरोल

aman

amanBy aman

Published on 24 Aug 2017 10:44 PM GMT

राजीव गांधी हत्याकांड: दोषी पेरारिवलन को मिली 30 दिन की पैरोल
X
राजीव गांधी की हत्या मामला: पेरारिवलन को मिली 30 दिन की पैरोल
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: पूर्व पीएम राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी पेरारिवलन को 30 दिन की पैरोल दे दी है। उल्लेखनीय है, कि राजीव गांधी की हत्या मामले में जेल की सजा काट रहे एजी पेरारिवलन को पैरोल दे दी गई थी। यह पैरौल पिता के इलाज के लिए 30 दिन की दी गई थी।

गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या 21 मई 1991 को श्रीपेरंबदूर के पास एक आत्मघाती हमले में की गई थी। इस मामले में पेरारिवलन सहित सात लोगों को दोषी ठहराया गया था।

1991 के बाद पेरारिवलन को पहली बार मिली पैरोल

बता दें, कि यह पहली बार है जब पेरारिवलन को पैरोल मिली है। 1991 से जेल में बंद पेरारिवलन को अब तक कभी पेरोल नहीं मिली थी। बीते दिनों सुप्रीम कोर्ट ने राजीव गांधी हत्याकांड से संबंधित एक याचिका की सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार से बेल्ट बम बनाने वाले षडयंत्र से जुड़ी जांच से संबंधित जानकारी मुहैया कराने के लिए कहा।

बेल्ट बम के जरिए ही हुआ था धमाका

बेल्ट बम के जरिए ही साल 1991 में तमिलनाडु में पूर्व पीएम राजीव गांधी की हत्या का षडयंत्र रचा गया था। कोर्ट ने बेल्ट बम मामले में दोषी पाए गए आरोपी की याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार से मामले की जांच से संबंधित जानकारी देने को कहा है। दोषी ने बम के लिए 9 बोल्ट की बैटरी सप्लाई की थी।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story