राजनाथ ने कहा- सबसे बात करने को तैयार, पैलेट गन का विकल्प जल्द

Published by August 25, 2016 | 12:59 pm
rajnath_singh_mehbooba

श्रीनगरः गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी में मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के साथ मीडिया के सामने सख्ती के साथ नरमी के भी संकेत दिए। राजनाथ सिंह ने कहा कि जम्हूरियत, कश्मीरियत और इंसानियत के दायरे में वो सबसे बात करने को तैयार हैं। पैलेट गन का विकल्प 2-3 दिन में सामने आ जाएगा। वहीं, महबूबा मुफ्ती ने कहा कि हिंसा फैलाने वाले लोगों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

कश्मीरियों के लिए नोडल ऑफिसर
गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने ऐलान किया कि गृहमंत्रालय जल्द ही एक नोडल ऑफिसर की तैनाती करने जा रहा है। देश के किसी कोने में रहने वाले कश्मीरियों को कोई दिक्कत हो तो सीधे संपर्क कर सकते हैं। जल्द ही नंबर जारी कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें…मीडिया के सवाल सुन भड़कीं महबूबा मुफ्ती, प्रेस कॉन्फ्रेंस छोड़ चली गईं

महीने में दो बार आया कश्मीर-सबसे बातचीत
राजनाथ सिंह ने कहा- जब से कश्मीर में अशांति हुए हुई है मैं दूसरी बार कश्मीर आया हूं। करीब 20 डेलीगेशन और सभी राजनीतिक पार्टियों के साथ बातचीत हुई है। सभी पार्टियों के साथ बातचीत अच्छी हुई है। सभी चाहते हैं कि कश्मीर में शांति कायम हो। करीब 300 सौ लोग मुझसे मिले हैं। कल आते ही मैंने ट्वीट किया था कि जम्हूरियत, कश्मीरियत और इंसानियत के दायरे में मैं बात करने आया हूं।

कौन खराब कर रहा है कश्मीरी युवाओं का फ्यूचर
गृहमंत्री ने कहा- जब भी कश्मीर का कोई युवा या हमारा सिक्योरिटी जवान मारा जाता है तो हिंदुस्तान के सभी लोगों को कष्ट होता है। क्या हम इस हालात से कश्मीर को बाहर नहीं निकाल सकते। मैं कश्मीर के सभी भाइयों बहनों से अपील करता हूं कि कश्मीर के युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ ना करें। युवाओं के हाथ में कंप्यूटर होना चाहिए। कौन लोग हैं जो उन्हें पत्थर उठाने की इजाजत देते हैं। क्या वो उनके फ्यूचर की गारंटी दे सकते हैं? हम कश्मीर के युवाओं के फ्यूचर को हिंदुस्तान के फ्यूचर से जोड़कर देखते हैं। ऐसे लोगों की पहचान करें जो युवाओं को बहका रहे हैं। बच्चों को समझाने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें…कश्मीरी पत्थरबाजों से अब निपटेगा PAVA, याद आ जाएगी नानी

ऑल पार्टी डेलीगेशन
राजनाथ सिंह ने कहा- ऐसा पहली बार हुआ है कि भारत सरकार का गृहमंत्री ऐसे हालात में एक महीने में दो बार आया। मैंने जम्मू-कश्मीर की सीएम से कहा है कि हम यहां ऑल पार्टी डेलीगेशन भी लाना चाहते हैं। इसके लिए तैयारी की जानी चाहिए। पैलेट गन का जहां तक सवाल है मैंने एक एक्सपर्ट कमेटी बनाई है। दो-तीन दिन में रिपोर्ट आ रही है। हम दो-तीन दिन में पैलेट गन का विकल्प देंगे। पहले 2010 में यह माना गया था कि पैलेट गन से ही कम से कम नुकसान होगा। लेकिन अब हम इसका विकल्प तलाश रहे हैं। हमने सुरक्षा जवानों से कहा है कि जहां तक संभव हो संयम बरतें।

पीएम को भी पीड़ा
राजनाथ सिंह ने कहा- मैं यहां के लोगों से ये भी कहूंगा कि इन्हीं सुरक्षाबलों से ने बाढ़ के दौरान किस तरह लोगों की मदद की थी। मैंने लखनऊ के हिंदुस्तान के सारे युवाओं से अपील की थी कि कश्मीर का हमारा युवा कहीं भी रहता हो उसकी हिफाजत करना उसका मान सम्मान करना उसके अंदर विश्वास जगाना हर हिंदुस्तानी की जिम्मेदारी है। हमारे प्रधानमंत्री जी ने भी पीड़ा व्यक्त की है। कश्मीर का डेवलपमेंट हम करना चाहते हैं।

महबूबा ने दिखाई सख्ती
मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 95 फीसदी लोग शांतिपूर्वक तरीके से समस्या का समाधान चाहते हैं। लेकिन पांच फीसदी लोग अशांति फैला रहे हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।