×

टीपू जयंती पर विवाद के बीच राष्ट्रपति कोविंद ने की तारीफ, बताया 'योद्धा'

aman

amanBy aman

Published on 25 Oct 2017 9:19 AM GMT

टीपू जयंती पर विवाद के बीच राष्ट्रपति कोविंद ने की तारीफ, बताया योद्धा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

बेंगलुरु: कर्नाटक में टीपू सुल्तान की जयंती को लेकर चल रहे सियासी घमासान के बीच बुधवार (25 अक्टूबर) को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मैसूर के इस शासक की जमकर प्रशंसा की। राष्ट्रपति कोविंद ने कर्नाटक विधानसभा के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए टीपू सुल्तान को एक ऐसा योद्धा बताया जो अंग्रेजों से लड़ते हुए 'ऐतिहासिक मौत' को प्राप्त हुआ।

कोविंद बोले, 'टीपू सुल्तान ने मैसूर रॉकेट के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। युद्ध के दौरान इनका बेहतरीन इस्तेमाल किया। इसी रॉकेट का बाद में यूरोप के लोगों ने भी इस्तेमाल किया।' जबकि दूसरी तरफ, बीजेपी नेता और सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने टीपू सुल्तान को हत्यारा करार दिया।

अनंत कुमार ने बताया था 'बलात्कारी'

गौरतलब है, कि कर्नाटक की सत्ताधारी कांग्रेस सरकार 10 नवंबर को टीपू सुल्तान जयंती मनाने जा रही है। बीजेपी इसका विरोध कर रही है। बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने बीते दिनों टीपू सुल्तान को 'बलात्कारी' और 'क्रूर हत्यारा' करार दिया था। उन्होंने एक ट्वीट के जरिए कहा था कि 'ऐसे व्यक्ति का जन्मदिन मनाना शर्मनाक है, जो क्रूर हत्यारा रहा है और जिसने बड़ी संख्या में महिलाओं के साथ बलात्कार किया।' केंद्रीय मंत्री ने राज्य सरकार से कहा था कि टीपू जयंती के कार्यक्रम में आमंत्रित अतिथियों की सूची से उनका नाम हटा दिया जाए।

टीपू के वंशजों ने की आपत्ति

अनंत कुमार के इस ट्वीट के बाद ही विवाद शुरू हो गया था। टीपू के वंशजों ने केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार से सशर्त माफी मांगने को भी कहा था। टीपू के वंशज साहबजादा मंशूर अली ने कहा, कि 'वे इस बयान के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराएंगे।'

दो सालों से मनायी जा रही है टीपू जयंती

दूसरी तरफ, कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार बीजेपी के इस विरोध के बाद भी टीपू जयंती को भव्य तरीके से मनाने जा रही है। उल्लेखनीय है, कि कर्नाटक में पिछले दो साल से टीपू सुल्तान की जयंती मनाई जा रही है, जिसका बीजेपी नेता पहले भी विरोध करते रहे हैं।



aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story