×

सोने का बेड, सोने का सोफा, जाने और क्या-क्या है सोने का राम रहीम के बेडरूम में

Gagan D Mishra

Gagan D MishraBy Gagan D Mishra

Published on 29 Aug 2017 8:53 PM GMT

सोने का बेड, सोने का सोफा, जाने और क्या-क्या है सोने का राम रहीम के बेडरूम में
X
सोने का बेड, सोने का सोफा, जाने और क्या-क्या है सोने का राम रहीम के बेडरूम में
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: सीबीआई कोर्ट ने बलात्कारी बाबा गुरमीत राम रहीम को अपनी दो साध्वी के यौन शोषण केस में 10-10 साल की सजा सुनाई। सात सौ एकड़ के साम्राज्य में रहने वाला गुरमीत अब 10 बाई 10 के बैरक में 8647 नंबर की पहचान लिए रह रहा है। लेकिन रोहतक स्थित सुनारिया जेल के बाहर उसको लेकर जो खुलासे हो रहे है वो चौंकाने वाले है। उसके काले कारनामों के बाद उसके साम्राज्य का सच सामने आ रहा है । वो साम्राज्य जहां वो आध्यात्म नहीं अय्याशी करता था।

यह भी पढ़े...जेल में नहीं सो पाया राम रहीम, बाबा के बाद अब बन गया माली

जेल में जब गुरमीत बैरक में छटपटा रहा था उस समय पुलिस डेरा सच्चा सौदा में रेड डाल रही थी और वहां जो चीजें बरामद हुई वो राम रहीम के अय्याशियों को बताने के लिए काफी था। रेड करने वाली टीम में से एक पुलिसकर्मी ने रेड का एक वीडियो बनाया है जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

यह भी पढ़े...शाहरुख़ खान ने राम रहीम की सजा सुनते ही रोकी शूटिंग, जाने क्यों !

वायरल वीडियो में साफ दिख रहा है कि खुद को भगवान का मैसंजेर कहने वाले गुरमीत सिंह ने डेरा के अंदर 5 स्‍टार होटल से भी बढ़कर इंतजाम कर रखे हैं। पुलिस को रेड में जो सोफा बरामद हुआ है उसपर सोने से जड़े हुए कवर लगे हुए थे। इतना ही नहीं डेरा से जो गिलास बरामद हुए हैं उसपर भी सोने की पॉलिश थी। दीवार पर बाबा रहीम को कई बड़ी-बड़ी तस्‍वीरें लगी थीं। लीविंग रूम में पुलिस घुसी तो दंग रह गई। पुलिस जब बेडरूम में गई तो उसने पाया कि बेडरूम की दीवार पर सोने जड़े थे।

यह भी पढ़े...जज ने कहा राम रहीम जानवरों की तरह पेश आया तो क्यों करें इस पर रहम

बता दें कि गुरमीत राम रहीम पर अपनी दो साध्वी के साथ बलात्कार का आरोप 15 साल पहले लगा था। एक गुमनाम लेटर के जरिए साध्‍वी ने इस बात का खुलासा किया था। तब उच्च न्यायालय ने लेटर का संज्ञान लेते हुए सितम्बर 2002 को मामले की सीबीआई जांच के आदेश दिए थे। सीबीआई ने जांच में आरोप सही पाए और डेरा प्रमुख के खिलाफ विशेष अदालत के सामने 31 जुलाई, 2007 में आरोप पत्र दाखिल किया। इस मामले में उसको जमानत तो मिल गई, लेकिन यह मामला लंबे समय से पंचकुला की सीबीआई अदालत में चल रहा था।

यह भी पढ़े...सजा के बाद जमकर लताड़ा गया ढोंगी राम रहीम, ड्रेसिंग सेंस का उड़ा मजाक

Gagan D Mishra

Gagan D Mishra

Next Story