×

शारदा घोटाला: राजीव कुमार से CBI की पूछताछ खत्म, कोलकाता के लिए हुए रवाना

शारदा चिटफंड घोटाले मामले में कोलकाला पुलिस कमिश्रर राजीव कुमार लगातार पांचवें दिन सीबीआई के सामने पेश हुए। सीबीआई ने करीब तीन घंटे तक राजीव कुमार से पूछताछ की। इस मामले में सीबीआई की पूछताछ खत्म हो चुकी है और उन्हें कोलकाता वापस लौटने के लिए कह दिया गया है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 13 Feb 2019 9:24 AM GMT

शारदा घोटाला: राजीव कुमार से CBI की पूछताछ खत्म, कोलकाता के लिए हुए रवाना
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: शारदा चिटफंड घोटाले मामले में कोलकाला पुलिस कमिश्रर राजीव कुमार लगातार पांचवें दिन सीबीआई के सामने पेश हुए। सीबीआई ने करीब तीन घंटे तक राजीव कुमार से पूछताछ की। इस मामले में सीबीआई की पूछताछ खत्म हो चुकी है और उन्हें कोलकाता वापस लौटने के लिए कह दिया गया है।

ये भी पढ़ें...पश्चिम बंगाल: ममता को बड़ा झटका, करीबी रहीं भारती घोष BJP में शामिल

राजीव कुमार पर क्या हैं आरोप?

कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के काफी करीबी हैं।सीबीआई ने 1989 बैच के आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार पर ‘शारदा चिटफंड घोटाले’ के सबूत मिटाने का आरोप लगाया है। सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई ने आरोप लगाया कि घोटाले की एसआईटी जांच के अगुवा रहे राजीव कुमार ने इलेक्ट्रॉनिक सबूत के साथ छेड़छाड़ की। केंद्रीय एजेंसी का आरोप है कि उन्होंने जो दस्तावेज एजेंसी को सौंपे उनमें कुछ ‘छेड़छाड़’ की गई है।

ये भी पढ़ें...चन्द्रबाबू की अपील के बाद ममता बनर्जी ने धरना किया खत्म, कहा- ये लोकतंत्र की जीत है

शारदा चिटफंड घोटाला क्या है?

शारदा चिटफंड घोटाला पश्चिम बंगाल में हुआ बड़ा आर्थिक घोटाला है। इस मामले में कई बड़े नेताओं के नाम जुड़े हैं. शारदा कंपनी पर आरोप है कि उसके प्रमोटरों ने लोगों (निवेशकों) से पैसे ठगने के लिए लुभावने वादे किए थे और रकम को 34 गुना कर वापस लौटाने का विश्वास दिलाया था. इस घोटाले में कथित रूप से लगभग 40 हजार करोड़ की हेरफेर हुई है।



सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2014 में सीबीआई को शारदा चिटफंड घोटाले के जांच के आदेश दिए थे। कोर्ट ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा और असम पुलिस को जांच में सहयोग करने का भी आदेश दिया था।

पश्चिम बंगाल समेत अन्य राज्यों में हुए शारदा चिटफंड घोटाले को अनुमानित रूप से 40 हजार करोड़ रुपए का बताया जा रहा है।

शारदा ग्रुप ने महज चार वर्षों में पश्चिम बंगाल के अलावा पड़ोसी झारखंड, ओडिशा और पूर्वोत्तर के राज्यों में अपने 300 दफ्तर खोल लिए थे। बाद में निवेशकों के पैसे लेकर इस चिटफंड कंपनी ने अपने ऑफिस पर ताला लगा दिया था।

ये भी पढ़ें...चिट फंड स्कैम-रोज़ वैली के दलदल में फंसे हैं बड़े-बड़े नाम

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story