वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन

एक सुनवाई के लिए वो 25 लाख और उससे ज्यादा फीस चार्ज करते हैं। इसमें इंदिरा गांधी केस के हत्यारों का केस, डॉन हाजी मस्तान और हर्षद मेहता जैसे केस हैं। राम जेठमलानी ने एक मशहूर वकील के साथ राजनेता भी थे। फिलहाल वह आरजेडी से राज्यसभा सांसद थे।

नई दिल्ली: जाने-माने वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन हो गया है। राम जेठमलानी लंबे समय से बीमार थे। राम जेठमलानी ने कई मशहूर केस भी लड़े थे। देश के सबसे महंगे वकीलों में राम जेठमालिनी का नाम आता है।

इसमें इंदिरा गांधी केस के हत्यारों का केस

अपनी एक सुनवाई के लिए वो 25 लाख और उससे ज्यादा फीस चार्ज करते हैं। इसमें इंदिरा गांधी केस के हत्यारों का केस, डॉन हाजी मस्तान और हर्षद मेहता जैसे केस हैं। राम जेठमलानी ने एक मशहूर वकील के साथ राजनेता भी थे। फिलहाल वह आरजेडी से राज्यसभा सांसद थे।

ये भी देखें : चंद्रयान -2: उम्मीद अभी बाकी, उठेगा रहस्य से पर्दा ISRO ने शुरू की पड़ताल

17 साल के उम्र में ही वकील बन गये थे

अपने धारदार तर्को से कठिन केस को अपने मुवक्किल के हिस्से में पलटने वाले जेठमलानी मात्र 17 साल के उम्र में ही वकील बन गये थे। अविभाजित भारत में पाकिस्तान स्थित शिकारपुर में 14 सितंबर 1923 को जन्में राम जेठमलानी के परिवार में पिता और दादा वकील थे। लिहाजा वकालत की पेशे को लेकर आकर्षण बचपन से ही था।

प्रैक्टिस करने की न्यूनतम उम्र थी 21 साल, जेठमलानी के विशेष योग्यता को देखते हुए उम्र सीमा में छूट दी गयी

पढ़ने में बेहद मेधावी रहे जेठमलानी ने दूसरी, तीसरी और चौथी कक्षा की पढ़ाई एक साल में ही पूरी कर ली थी और मात्र 13 साल की उम्र में मैट्रिक पास कर गये थे। जब उनकी उम्र 17 साल की हुई तब वह वकालत की डिग्री हासिल कर चुके थे लेकिन उन दिनों नियम के हिसाब से प्रैक्टिस करने की न्यूनतम उम्र 21 साल रखी गयी थी। जेठमलानी के विशेष योग्यता को देखते हुए इस उम्र सीमा में छूट दी गयी।

ये भी देखें : चंद्रयान-2 का 95 फीसदी हिस्सा सलामत: इसरो

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्यारों सतवंत सिंह और केहर सिंह के वकील के तौर पर पेश हुए थे। यही नहीं उन्होंने एम्स के डॉक्टर और इंदिरा गांधी के शव का पोस्टमार्टम करने वाले टी डी डोगरा द्वारा दिए गए मेडिकल प्रमाणों को भी चैलेंज किया था। हालांकि उनके इस केस पर कई लोगों ने आपत्ति जताई थी।