×

केंद्र सरकार पर शरद का हमला- जीएसटी में संशोधन सिर्फ ढकोसला

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 7 Oct 2017 4:12 PM GMT

केंद्र सरकार पर शरद का हमला- जीएसटी में संशोधन सिर्फ ढकोसला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : जनता दल (युनाइटेड) के बागी नेता शरद यादव ने शानिवार को केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में संशोधन सिर्फ एक ढकोसला है, क्योंकि आम जनता सरकार की नीतियों की बुरी तरह आलोचना कर रही है। उन्होंने यह भी कहा कि 2019 का आम चुनाव 'आर्थिक मुद्दे' पर लड़ा जाएगा।

शरद यादव ने एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते कहा, "वित्त मंत्रालय द्वारा जीएसटी में किए गए संशोधन की घोषणा का मतलब लोगों का ध्यान असली मुद्दों से भटकाना है।"

ये भी देखें: जय हो! अब यूपी के 5 हजार प्राइमरी स्कूल बनेंगे English Medium

उन्होंने यह भी कहा कि जल्दबाजी में लिए गए जीएसटी और नोटबंदी के फैसले के कारण देश के विभिन्न क्षेत्रों में तीन से पांच करोड़ लोगों ने अपनी नौकरियां खो दी है।

उन्होंने कहा, "जीएसटी और नोटबंदी के बाद, उद्योगों के उत्पादन, व्यापारियों और अन्य व्यवसायों द्वारा बिक्री और खरीद में 20 से 80 प्रतिशत तक की कमी आई है।" उन्होंने कहा कि इससे सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्र रियल एस्टेट रहा है, जिसके कारण बड़ी संख्या में मजदूरों को वापस अपने गांवों में लौटना पड़ा है।

उन्होंने देश भर में किसानों की आत्महत्या का भी उल्लेख किया।

ये भी देखें: केजरीवाल सरकार DMRC को सालाना 3 हजार करोड़ दे, तो रुके किराया वृद्धि

नए रिटर्न नियमों और मानदंडों को लेकर सरकार पर हमला बोलते हुए शरद ने कहा कि सरकार ने घोषणा की है कि अब व्यापारियों को अपने रिटर्न हर महीने के बजाए तीन महीने पर दाखिल करनी होगी। उन्होंने सवाल किया, "क्या पूरा देश कंप्यूटर के अनुकूल बन गया है? क्या देश में सभी जगह 24 घंटे बिजली उपलब्ध है?"

उन्होंने कहा, "यह सरकार केवल एक पैच अप का काम कर रही है और जल्द ही हम इसके खिलाफ एक बड़ा कदम उठाएंगे।"

उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने यह घोषणा नहीं की है कि अगर किसी व्यापारी ने गलती से गलत सूचना दर्ज करा दी तो उसे कितनी बार कारावास का सामना करना पड़ सकता है।

उन्होंने कहा, "देश अब तक का सबसे खराब इंस्पेक्टर राज का सामना कर रहा है।"

ये भी देखें: एनकाउंटर से सहमत नहीं सपा, पुलिस पर निर्दोर्षों की हत्या का आरोप

उन्होंने यह भी कहा कि इस बार का 2019 का आम चुनाव आर्थिक मुद्दे पर लड़ा जाएगा, क्योंकि देश आर्थिक संकट का सामना कर रहा है।

राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी) के आदेश को 'अन्याय' करार देते हुए उन्होंने एनजीटी से अपना आदेश वापस लेने का आग्रह किया। एनजीटी ने दिल्ली में विरोध प्रदर्शन स्थल को जंतर मंतर से हटाकर रामलीला मैदान में स्थानांतरित करने को कहा है।

शरद ने यह भी कहा कि पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक रविवार को बुलाई गई है, जिसमें पार्टी के सभी प्रदेश अध्यक्ष भाग लेंगे।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story