×

अध्यात्मिकता के साथ वैज्ञानिक प्रगति की जरूरत : सत्यपाल सिंह

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 Feb 2018 1:49 PM GMT

अध्यात्मिकता के साथ वैज्ञानिक प्रगति की जरूरत : सत्यपाल सिंह
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री सत्यपाल सिंह ने यहां बुधवार को कहा कि हमारे जीवन के पूर्ण मूल्यांकन के लिए हमें बुद्धि और मन के साथ अध्यात्मिकता का विज्ञान अवश्य सीखना चाहिए।

भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान एकेडमी (आईएनएसए) में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के अवसर पर उन्होंने देश के वैज्ञानिकों के प्रति आभार जताया और छात्रों के बीच वैज्ञानिक मनोभाव के विकास करने की जरूरत के बारे में बताया।

मंत्री ने कहा, "इससे पहले भी मैंने कहा था..कि दिल्ली, मुंबई में आत्महत्या करने वालों की संख्या यहां होने वाली हत्याओं से ज्यादा है। यह विज्ञान है जो हमें मानव जीवन के मूल्य के बारे में बताता है। क्या विज्ञान हमें जीवन के इस तरह के मूल्यों के बारे में सिखाता है? यह तबतक होगा जबतक कि हम अध्यात्मिक विज्ञान के बारे में बात नहीं करेंगे। बुद्धि के विज्ञान को पढ़ाए जाना चाहिए।"

ये भी देखें : फिल्म डैडीज डॉटर का मीडिया पार्टनर बना न्यूजट्रैक, बेटियों की परवरिश का दिया संदेश

उन्होंने कहा, "विज्ञान ने विश्व को वैश्विक गांव में तब्दील कर दिया। हम दुनिया से जुड़ गए लेकिन खुद से कट गए। हमें निश्चय ही जीवन के विज्ञान के बारे में चर्चा करना चाहिए। चिकित्सा विज्ञान भी तेजी से आगे बढ़ रहा है। क्या हम चिकित्सा के साथ ज्ञान और दिमाग के विज्ञान पर चर्चा करेंगे?"

मंत्री ने कहा कि वैज्ञानिक मनोदशा का पहला शर्त 'खुद से प्रश्न करना' और 'दूसरे को आपके विश्वास पर प्रश्न करने देना' है।

राज्यमंत्री ने इससे पहले पिछले महीने चार्ल्स डार्विन के क्रमागत विकासवाद के सिद्धांत को 'वैज्ञानिक तरीके से गलत' बताया था और दावा करते हुए कहा था कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि हमारी उत्पत्ति बंदरों से हुई है।

भारतीय वैज्ञानिक और नोबेल पुरस्कार विजेता सी.वी. रमन द्वारा 'रमन प्रभाव' की खोज के अवसर पर प्रत्येक वर्ष 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story