×

ये देश वीर जवानों का था ही अब स्टेल्थ के साथ दुनिया की इस खास लिस्ट में होगा शामिल

बचपन में गाना सुना करते थे, ये देश है वीर जवानों का, अलबेलों का मस्तानों का...इस देश का यारों क्या कहना! पहले समझ में नहीं आता था। जब समझ विकसित हुई तो जाना कि दुनिया वाले जो काम नहीं कर सके या नहीं कर सकते वो हमारे वीरों ने कर दिखाए। देश भले ही ना जीते हों लेकिन हमने दिलों को जीता है।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 22 Feb 2019 12:08 PM GMT

ये देश वीर जवानों का था ही अब स्टेल्थ के साथ दुनिया की इस खास लिस्ट में होगा शामिल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कानपुर : बचपन में गाना सुना करते थे, ये देश है वीर जवानों का, अलबेलों का मस्तानों का...इस देश का यारों क्या कहना! पहले समझ में नहीं आता था। जब समझ विकसित हुई तो जाना कि दुनिया वाले जो काम नहीं कर सके या नहीं कर सकते वो हमारे वीरों ने कर दिखाए। देश भले ही ना जीते हों लेकिन हमने दिलों को जीता है। इस बात को अच्छे से जानना हो तो बंगलादेश वालों से पूछ सकते हैं। कुछ ऐसा ही अब आईआईटी कानपुर का एयरोस्पेस इंजीनियरिंग विभाग करने जा रहा है। जो दुनिया के लिए मिसाल होगा कि हमारा देश सिर्फ सपेरों का देश नहीं है बल्कि तकनीक में किसी से भी टक्कर ले सकता है....इतना सब बताने की जरुरत इस लिए आन पड़ी क्योंकि स्टेल्थ तकनीकी युक्त विशेष विमान का डिजाइन और प्रोटोटाइप विकसित करने में हमें लगभग सफलता मिल चुकी है। खास बात ये है कि अक्टूबर तक इसका परीक्षण भी होने वाला है।

ये भी देखें : लखनऊ की रेजीडेंसी में मौजूद हैं अतीत की सनहरी यादें, कभी अंग्रेजों का था अड्डा

क्या है ये स्टेल्थ तकनीकी

स्टेल्थ तकनीक दुनिया के गिने चुने देशों के पास ही है। स्टेल्थ विमान रडार की पकड़ में नहीं आते। फिफ्थ जेनरेशन फाइटर एयरक्रॉफ्ट विकसित करना देश के लिए सपना बन चुका था। जो अब पूरा होने वाला है।

स्टेल्थ टेक्नोलॉजी युक्त मानव रहित विशेष लड़ाकू विमान का डिजाइन और प्रोटोटाइप एयरोस्पेस इंजीनियरिंग विभाग ने लगभग तैयार कर लिया है।

रूस हटा लेकिन इरादे नहीं डिगे

2018 में रूस इस प्रोजेक्ट से हट गया इसके बाद इंजन को लेकर समस्या खड़ी हो गई। लेकिन हमारे वैज्ञानिकों ने इसे चैलेंज की तरह लिया और सफल भी हुए।

ये भी देखें : रोल मॉडल बनना हो तो कोई मनिता दीदी से सीखें, इनकी चर्चा हर जुबान पर है

क्यों खास है अक्टूबर

एयरोस्पेस इंजीनियरिंग विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. एके घोष इस प्रोजेक्ट को लेकर काफी उत्त्साहित हैं उन्होंने बताया, अक्टूबर में विमान के मॉडल की पूरी फ्लाइट टेस्टिंग होगी। इसकी गति, आवाज, हवा में स्थिरता आदि का आंकलन किया जाएगा।

क्या है खास

विमान में एडवांस बैटल फील्ड रडार, आरएफ सेंसर, ग्राउंड रडार, सेंसर युक्त सिस्टम होगा। विमान बेहद हल्का और आवाज रहित होगा।

अक्टूबर में परीक्षण के लिए आईआईटी के एयरस्ट्रिप के आसपास बैटल फील्ड तैयार की जाएगी। रडार सिस्टम लगाया जाएगा।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story