भारत में धर्म और जाति के आधार पर हमले देश की महानता पर कलंक: जमीयत उलेमा-ए-हिंद

जमीयत के महासचिव मौलाना महमूद मदनी ने कहा, ‘‘भारत में धर्म और जाति के आधार पर हमले देश की महानता पर कलंक हैं। इसलिए, देश के शासकों, सभी धर्मों के जिम्मेदार और प्रभावशाली लोगों को एक साथ आवाज़ उठाने की आवश्यकता है।’’

नयी दिल्ली: देश में मुसलमानों के प्रमुख संगठन जमीयत उलेमा-ए- हिंद ने दिल्ली से सटे गुड़गांव में होली के दिन एक मुस्लिम परिवार पर कथित हमले की घटना को लेकर गहरी चिंता जताते हुए इसे ‘देश की महानता पर कलंक’ बताया और हरियाणा सरकार से कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

ये भी देखें:कांग्रेस के इस प्रत्याशी की पांच साल में घट गई तीन गुणा संपत्ति

जमीयत के महासचिव मौलाना महमूद मदनी ने कहा, ‘‘भारत में धर्म और जाति के आधार पर हमले देश की महानता पर कलंक हैं। इसलिए, देश के शासकों, सभी धर्मों के जिम्मेदार और प्रभावशाली लोगों को एक साथ आवाज़ उठाने की आवश्यकता है।’’

संगठन की ओर से जारी बयान में मदनी ने मुस्लिम घर पर हमले की घटना को लेकर गहरी चिंता व्यक्त की और देश में हो रही इस तरह की घटनाओं पर तत्काल कार्रवाई की मांग की है।

मदनी ने घटना के संबंध में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को एक पत्र भी लिखा है। पत्र में मदनी ने कहा है कि इस घटना के सोशल मीडिया के जरिए सामने आने के बाद पूरा देश चिंतित है। इसलिए अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए और पीड़ितों के साथ न्याय किया जाए।

इसके अलावा, जमीयत के एक प्रतिनिधिमंडल ने गुड़गांव में पीड़ित परिवार से मुलाकात की और उनका मुकदमा लड़ने का ऐलान किया।

ये भी देखें:स्थापना दिवस: जानें कैसे हुआ बांग्लादेश का उदय?

गौरतलब है कि 21 मार्च की शाम गुड़गांव के भौंडसी में दर्जन भर से ज्यादा लोगों ने कथित रूप से एक घर पर हमला कर दिया था और वहां रहने वाले अल्पसंख्यक परिवार के लोगों को लाठी, डंडों और लोहे की छड़ से बुरी तरह पीटा था।

(भाषा)