कर्मचारियों को तगड़ा झटका: बढ़ गई ये तारीख, कोरोना का पड़ा असर

कोरोना वायरस के इस संकट के चलते केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों का एनुअल परफॉर्मेंश अप्रैजल रिपोर्ट्स की प्रक्रिया शुरू करने और पूरा करने की तारीख बढ़ा दी है।

कर्मचारियों को बड़ा झटका: केंद्र का अप्रैजल को लेकर फैसला

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के इस संकट के चलते केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों का एनुअल परफॉर्मेंश अप्रैजल रिपोर्ट्स की प्रक्रिया शुरू करने और पूरा करने की तारीख बढ़ा दी है। कार्मिक मंत्रालय के आदेश के अनुसार, कोरोना वायरस महामारी के कारण तारीख आगे बढ़ाई गई है। बता दें कि सेंट्रल सिविल सर्विसेज के ग्रुप A, B और C अधिकारियों के लिए एपीएआर पूरी करने की संशोधित तारीख जारी कर दी गई है। केंद्र सरकार के सभी अधिकारियों को हर साल एपीएआर जमा करना जरुरी है।

ये भी पढ़ें…तबलीगी जमात की कहानी, कुछ ऐसा है इसका इतिहास

इस आदेश में कहा गया है कि संशोधित कार्यक्रम के अनुसार, खाली एपीएआर फॉर्म का वितरण 30 मई तक पूरा हो जाना चाहिए। इसकी पहले वितरण की तारीख 31 मार्च थी। इसी तरह रिपोर्टिंग अधिकारी को सेल्फ-अप्रैजल को जमा करने की तारीख 15 अप्रैल थी, जिसे अब बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया है। आए आदेश के अनुसार, यह राहत सिर्फ एक बार ही मिलेगी।

ये भी पढ़ें…37 हजार 797 मौतें: सामने आया इजरायल का कड़वा सच

कार्मिक मंत्रालय ने कहा है कि रिपोर्टिग अधिकारी के एपीएआर का खुलासा 10 सितंबर (उस स्थिति में जहां स्वीकार करने वाले अधिकारी नहीं हैं) तक और 10 अक्टूबर (उस स्थिति में जहां स्वीकार करने वाले अधिकारी हैं) तक हो जाना चाहिए। इसकी पूरी प्रक्रिया 31 दिसंबर 2020 तक पूरी होनी चाहिए। इसके बाद एपीएआर को रिकॉर्ड में लिया जाएगा।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App