Top

सुखोई-30: विमान के पायलट का खून से सना जूता मिला, तलाश अब भी जारी

aman

amanBy aman

Published on 30 May 2017 8:53 AM GMT

सुखोई-30: विमान के पायलट का खून से सना जूता मिला, तलाश अब भी जारी
X
सुखोई-30: विमान के पायलट का खून से सना जूता मिला, तलाश अब भी जारी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गुवाहटी: भारतीय वायुसेना के असम-अरुणाचल प्रदेश सीमा के पास दुर्घटनाग्रस्त हुए सुखोई-30 लड़ाकू विमान के दो पायलटों में से एक का खून से सना जूता, आधा जला हुआ पैन कार्ड आदि मिला है। खोज एवं बचाव दल को ये सामान मिले हैं। इस दल में भारतीय सेना, वायुसेना और स्थानीय प्रशासन के अधिकारी शामिल हैं। गौरतलब है, कि जांच दल को घटनास्थल से 28 मई को विमान का ब्लैक बॉक्स मिल गया था। लेकिन दोनों पायलट का कोई सुराग नहीं मिला था।

ये भी पढ़ें ...भारतीय सेना के लड़ाकू विमान सुखोई-30 का मिला मलबा, भारत- चीन सीमा से हुआ था लापता

भारतीय सेना के सूत्रों की मानें तो, 'खराब मौसम के बावजूद तलाशी अभियान जारी है। हालांकि, अभी तक दोनों पायलटों का कोई सुराग नहीं मिल सका है।' हवाई रेकी के जरिए तेजपुर से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर 26 मई को विमान का मलबा बरामद हुआ था।

ये भी पढ़ें ...असम: भारत-चीन सीमा पर वायुसेना का विमान सुखाई-30 लापता, सर्च ऑपरेशन जारी

23 मई को था नियमित उड़ान पर

बता दें, कि एसयू-30 नियमित प्रशिक्षण के लिए 23 मई की सुबह 10.30 बजे तेजपुर सैन्य अड्डे से उड़ान भरी थी। चीन से सटे अरुणाचल के डोलसांग के पास से सुबह 11 बजे विमान रडार से गायब हो गया था। तेजपुर देश के तीन आईएएफ सैन्य अड्डों में से एक है, जहां से सुखोई विमान उड़ान भरते हैं।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story