×

सुंजवां आर्मी कैंप: आतंकियों से निहत्थे लड़े मदनलाल, नहीं तो होती और तबाही

aman

amanBy aman

Published on 12 Feb 2018 3:29 AM GMT

सुंजवां आर्मी कैंप: आतंकियों से निहत्थे लड़े मदनलाल, नहीं तो होती और तबाही
X
सुंजवां आर्मी कैंप: आतंकियों से निहत्थे लड़े मदनलाल, नहीं तो होती और तबाही
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

जम्मू: सुंजवां आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले में सेना के 5 जवान शहीद हुए हैं। रविवार को सेना ने इस ऑपरेशन को खत्म किया। भारतीय सेना के जवानों ने इस ऑपरेशन में कुल 4 आतंकियों को मार गिराया। आतंकियों ने शनिवार तड़के हमला किया था।

लेकिन इस हमले में सूबेदार मदन लाल चौधरी (50 वर्ष) की शहादत एक मिसाल पेश कर गई। मदन लाल गोली लगने के बाद भी अकेले ही आतंकियों से भिड़ गए और अपनी अंतिम सांस तक लड़ते रहे। मदन लाल चौधरी खुद शहीद हो गए लेकिन उन्होंने आतंकियों को परिवारों की तरफ बढ़ने नहीं दिया।

उसी फैमिली क्वार्टर में था मदनलाल का परिवार

जानकारी के अनुसार, आतंकवादियों की गोलीबारी में सूबेदार मदनलाल चौधरी घायल हुए थे। उन्हें एके-47 से गोली मारी गई थी। आतंकियों ने सेना के फैमिली क्वार्टर पर हमला किया था। उस दौरान मदनलाल का परिवार भी उसी क्वार्टर में था। दरअसल, मदन लाल का परिवार अपने किसी रिश्तेदार की शादी के लिए सामान की खरीदारी करने यहां आया था।

खुद जान गंवाई, लेकिन सबको बचाया

मदनलाल की इस शहादत पर उनके भाई सुरिंदर चौधरी ने कहा, कि 'आतंकियों से लड़ते हुए उन्होंने अपनी जान गंवा दी। उन्होंने अपने परिवार और दूसरों लोगों को बचा लिया।' बताया, कि 'आतंकियों के हमले के बाद मदनलाल ने सबसे पहले पीछे के गेट से परिवार वालों को सुरक्षित निकाला। उसके बाद खुद आतंकियों से दो-दो हाथ करने लगे। इसी दौरान उन्हें गोली लगी और वो शहीद हो गए।'

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story