×

सबरीमाला पुनर्विचार याचिकाओं पर अब 13 नवंबर को होगी अगली सुनवाई

Manali Rastogi
Updated on: 23 Oct 2018 4:50 AM GMT
सबरीमाला पुनर्विचार याचिकाओं पर अब 13 नवंबर को होगी अगली सुनवाई
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट अब 13 नवंबर को सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश संबंधी संवैधानिक पीठ के फैसले के खिलाफ दोबारा सुनवाई का आग्रह करने वाली कई याचिकाओं पर निर्णय लेगा। कोर्ट की संवैधानिक पीठ ने अपने ऐतिहासिक फैसले में केरल के सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 वर्ष की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति दी है।

यह भी पढ़ें: लगातार छठे दिन घटे पेट्रोल-डीजल के दाम, कच्चा तेल नरम

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति संजय कृष्ण कौल की पीठ ने सोमवार को कहा कि पूर्व प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अगुवाई में जिस पीठ ने 28 सितंबर को यह फैसला सुनाया था, उसे दोबारा पुनर्गठित किया जाना है। पुनर्विचार याचिकाओं पर प्राय: मामले के संबंध में फैसला सुनाने वाली पीठ ही विचार करती है।

यह भी पढ़ें: पेटीएम के मालिकों से इस तरह मांगी गई 10 करोड़ की फिरौती, यहां जानें पूरा मामला

नेशनल एसोसिएशन ऑफ अयप्पा डिवोटीज की ओर से पुनर्विचार याचिकाओं पर जल्द सुनवाई की मांग के बाद प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि सुनवाई के संबंध में निर्णय लिया जाएगा। अदालत के समक्ष इस संबंध में 19 याचिकाएं लंबित हैं, जिसमें निर्णय पर दोबारा सुनवाई की मांग की गई है।

यह भी पढ़ें: 2019 लोकसभा चुनाव में BJP को रोकने के लिए झारखंड में तैयार हो रहा महागठबंधन

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में रजस्वला महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं देने की वर्षो पुरानी परंपरा को समाप्त कर दिया है। याचिकाकर्ताओं ने फैसले में प्रक्रियात्मक त्रुटियों का मुद्दा उठाकर मामले की दोबारा सुनवाई की मांग की है। इसके साथ ही याचिकाकर्ताओं ने कहा कि धार्मिक विश्वास को 'तार्किक आधार पर परखा नहीं जा सकता।'

यह भी पढ़ें: यहां शादी करेंगे दीपिका-रणवीर! एक दिन का किराया सुनकर उड़ जाएंगे होश

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली पांच न्यायाधीशों की पीठ ने 4:1 के बहुमत से यह फैसला सुनाया था। पीठ ने कहा था कि रजस्वला उम्र की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश नहीं करने देना उनके मूलभूत अधिकार और संविधान की ओर से बराबरी के अधिकार की गारंटी का उल्लंघन है। इस मंदिर में रजस्वला महिलाओं की उपस्थिति को 'अपिवत्र' माना जाता रहा है।

--आईएएनएस

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story