ऐसा खूंखार पति: चला था पत्नी को जलाने, खुद ही हो गया आग के हवाले

दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके में एक पति अपनी पत्नी को जलाकर मारने के लिए पेट्रोल लेकर आया। उसने पहले अपनी पत्नी आग लगाया और बाद में खुद भी मरने की कोशिश की, लेकिन बात बन नहीं पायी। मौके पर पत्नी ने ही पति की जान बचा ली।

Published by Ashiki Patel Published: June 3, 2020 | 3:44 pm
Modified: June 3, 2020 | 3:48 pm

नई दिल्ली: अक्सर पति-पत्नी के बीच लड़ाई-झगडे होते रहते हैं। यह लगभग हर दूसरे घर की कहानी है। लेकिन जब से देश में कोरोना की वजह से लॉकडाउन लगा है, पति पत्नी के बीच झगड़े कुछ ज्यादा ही बढ़ते जा रहे हैं। यहाँ तक कि लॉकडाउन महिलाओं के लिए ज्यादा ही परेशानी का सबब बन गया है। इन दिनों महिलाओं के घरेलु हिंसा के शिकार होने की खबरें कुछ ज्यादा ही सामने आयीं हैं। इसका एक जीता-जगता उदहारण हाल ही में दिल्ली से आया है।

ये भी पढ़ें: मुंबईः चक्रवात निसर्ग की वजह से शिवाजी एयरपोर्ट पर शाम 7 बजे तक विमानों की आवाजाही पर रोक

ये है पूरा मामला-

दरअसल दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके में एक पति अपनी पत्नी को जलाकर मारने के लिए पेट्रोल लेकर आया। उसने पहले अपनी पत्नी आग लगाया और बाद में खुद भी मरने की कोशिश की, लेकिन बात बन नहीं पायी। मौके पर पत्नी ने ही पति की जान बचा ली। अपने पति को जलता देख पत्नी ने किसी तरह उसकी जान बचाई, जिसके बाद घायल पति को तुरंत लालबहादुर शास्त्री अस्पताल में भर्ती कराया गया।

अक्सर होता रहता है विवाद

दोनों के पड़ोसियों के अनुसार लॉकडाउन से पहले आरिफ मेरठ गया था, लेकिन लॉकडाउन लग जाने की वजह से वह वहीं फंस गया। लॉकडाउन में ढील मिलने के बाद बीते दिनों वह दिल्ली लौटा। दोनों पति-पत्नी के बीच अक्सर झगड़े होते रहते थे। लॉकडाउन के इतने दिन बाद मेरठ से लौटकर आरिफ ने इस विवाद को जड़ से खत्म करने का प्लान बनाया और उसने खुद को और पत्नी को मार डालने का प्रयास किया।

ये भी पढ़ें: भारत के लिए खतरे की घंटी, चीन की सेना रात में इस स्थान पर कर रही युद्ध की प्रैक्टिस

घटना मंगलवार की है। पत्नी के ऊपर पेट्रोल छिड़ककर उसे जलाने की कोशिश की। बाद में उसने खुद के ऊपर भी पेट्रोल छिड़क लिया। देखते ही देखते आरिफ भी आग की चपेट में आ गया। पति को जलता देख बाद में आरिफ की पत्नी ने उसके शरीर पर कंबल डालकर आग बुझाई।

ये भी पढ़ें: तूफान के तांडव का आँखों देखा हाल, कहीं उड़ गए पेड़ तो कहीं उड़ीं घरों की छतें