रिहा हुए ये 4 नेता: 370 हटाए जानें के बाद से ही थे नजरबंदी

जम्मू कश्मीर में जबसे आर्टिकल 370 को हटाया गया है, उसके बाद से ही यहां के नेतों को नजरबंदी कर दिया गया था। लेकिन इतने महीने बाद अब उन चार नेताओं को नजरबंदी से रिहा कर दिया गया है।

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर में जबसे आर्टिकल 370 को हटाया गया है, उसके बाद से ही यहां के नेतों को नजरबंदी कर दिया गया था। लेकिन इतने महीने बाद अब उन चार नेताओं को नजरबंदी से रिहा कर दिया गया है। इनमें नेशनल कॉन्फ्रेंस (NC) के अब्दुल मजीद लारमी, गुलाम नबी भट्ट, डॉ। मोहम्मद शफी और मोहम्मद यूसुफ भट्ट शामिल हैं। 5 अगस्त 2019 को संविधान के आर्टिकल 370 को हटाए जाने के बाद से इन्हें नजरबंद किया गया था।

इससे पहले 17 जनवरी को जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने हिरासत में रखे गए नेताओं को रिहा करने की चल रही प्रक्रिया के अंदर एक पूर्व मंत्री के साथ चार पूर्व विधायकों को रिहा किया था। रिहा किए गए नेताओं में हाजी अब्दुल रशीद, नजीर अहमद गुरेजी, मोहम्मद अब्बास वानी और पूर्व मंत्री अब्दुल हक खान शामिल थे।

ये भी पढ़ें:जम्मू कश्मीरः NC विधायक अब्दुल माजिद, गुलाम नबी भट्ट, मोहम्मद शफी और मोहम्मद युसुफ रिहा

इससे भी पहले 05 नेताओं को रिहा कर दिया गया था, जिसमें नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता अल्ताफ कालू, शौकत गनई और सलमान सागर और पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के नेता निजामुद्दीन भट्ट और मुख्तार बंध शामिल थे। जिसमें सलमान सागर श्रीनगर नगर निगम के मेयर रह चुके हैं।

ऐसा बताया जा रहा है कि इन नेताओं की रिहाई के साथ वर्तमान में कश्मीर घाटी में हिरासत में 17 नेता बचे हैं, जिनमें पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती शामिल हैं।

ये भी पढ़ें:आखिर किसने किया रणजीत बच्चन का मर्डर, पुलिस इस एंगल से कर रही जांच

आपको बता दें कि इन नेताओं को आर्टिकल 370 हटाने के बाद अरेस्ट किया गया है। मोदी सरकार ने 5 अगस्त 2019 को आर्टिकल 370 हटा दिया था और जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म कर दिया था। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों यानी जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया गया था।