ये हैं मोदी की मिनिस्टर लिस्ट में शामिल यूपी के नेता

बता दें कि मेनका गांधी, सुरेश प्रभु, जेपी नड्डा, राधा मोहन सिंह को मोदी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया।

लखनऊ: केन्द्र में नरेन्द्र मोदी को सत्ता दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले उत्तर प्रदेश के सांसदों को मंत्रिमंडल में सबसे अधिक जगह दी गयी है। इसमें राजनाथ सिंह से लेकर निरंजन ज्योति तक शामिल हैं। 17वीं लोकसभा के लिए सबसे अधिक लोकसभा सीटों वाले यूपी में भाजपा गठबन्धन को 80 में से 64 सीटे मिली हैं। पर इस बार गठबन्धन में शामिल अनुप्रिया पटेल को मंत्री पद नहीं दिया गया है।

यूपी के जिन सांसदों को मंत्री बनाया गया है उनमें

राजनाथ सिंहः
लखनऊ से दूसरी बार सांसद बने राजनाथ सिंह इसके पहले भी मोदी मंत्रिमंडल में गृहमंत्री रहे हैं। इस बार भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बाद दूसरे नम्बर पर शपथ दिलाई गयी। लम्बा राजनीतिक अनुभव रखने वाले राजनाथ सिंह यूपी के मुख्यमंत्री रहने के साथ ही अटल सरकार में भी मंत्री रह चुके हैं।

ये भी पढ़ें— हज कोटा बढ़वाने में मुख्तार अब्बास नकवी की अहम भूमिका रही

डा महेन्द्र नाथ पाण्डेय
राजनाथ सिंह के करीबी कहे जाने वाले भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डा महेन्द्र नाथ पाण्डेय कल्याण सिंह और राजनाथ सिंह की सरकार में भी मंत्री रह चुके हैं। चंदौली लोकसभा सीट से दूसरी बार चुनाव जीते डा महेन्द्र नाथ पाण्डेय पिछली बार भी मोदी सरकार में मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री थें। इस बार उन्हे कैबिनेट मंत्री बनाया गया है।

स्मृति जुबिन ईरानी

अपने राजनीतिक कौशल के चलते कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अमेठी लोकसभा सीट से हराने वाली स्मृति ईरानी को इस बार भी कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। पिछली मोदी सरकार में मानव संसाधन विकास मंत्री तथा सूचना प्रसारण मंत्री भी रह चुकी हैं। वह पहली बार लोकसभा का चुनाव जीती हैं। इसके पहले वह राज्यसभा सदस्य रह चुकी हैं।

ये भी पढ़ें— लखनऊ: डा.महेन्द्र नाथ पाण्डेय को मिला परिश्रम का ईनाम

संतोष गंगवार

बरेली लोकसभा सीट से आठवीं बार सांसद बने संतोष गंगवार इसके पहले भी अटल सरकार में मंत्री रह चुके हैं। इस बार उन्हे (राज्यमंत्री ) स्वतंत्र प्रभार की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पिछली सरकार में वित्त एवं कपडा राज्य मंत्री रह चुके हैं।

वीके सिंह

गाजियाबाद से दूसरी बार सांसद चुने गए वीके सिंह को राज्यमंत्री बनाया गया है। सेना से रिटायर होकर राजनीति में आए वीके सिंह का लम्बा राजनीतिक कैरियर नहीं है। अन्ना आंदोलन से जुडे रहे वीके सिंह पांच साल पहले राजनीति में आए और गाजियाबाद से चुनाव जीतकर पहले सांसद बने फिर मोदी सरकार में विदेश राज्यमंत्री बने। नवगठित मोदी सरकार में उन्हे फिर से राज्यमंत्री बनाया गया है।

साध्वी निरंजन ज्योति

फतेहपुर लोकसभा सीट से लगातार दूसरी बार चुनाव जीती साध्वी निरंजन ज्योति को इस बार भी मोदी मंत्रिमण्डल में जगह दी गयी है। हमीरपुर जिले में एक साधारण परिवार में जन्मी साध्वी निरंजन ज्योति 1990 के अयोध्या आंदोलन में चर्चा में आई। इसके बाद 2014 में फतेहपुर से लोकसभा का टिकट दिया गया और वह चुनाव जीतकर राज्यमंत्री बनी।

ये भी पढ़ें— मोदी को दोबारा PM पद की शपथ लेने पर BJP कार्यालय में जश्न मनाते समर्थक

संजीव कुमार बालियान

मुजफफरनगर सीट से रालोद अध्यक्ष चै अजित सिंह को हराने वाले संजीव बालियान को फिर से मोदी मंत्रिमंडल में जगह दी गयी है। पश्चिमी उप्र में जाट राजनीति में संजीव बालियाना एक बडा नाम माना जाता है। बता दें कि मेनका गांधी, सुरेश प्रभु, जेपी नड्डा, राधा मोहन सिंह को मोदी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया।