×

मप्र में किसानों पर पुलिस ज्यादती साबित, गृहमंत्री पद छोडें : कांग्रेस

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 13 Oct 2017 3:25 PM GMT

मप्र में किसानों पर पुलिस ज्यादती साबित, गृहमंत्री पद छोडें : कांग्रेस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

भोपाल : मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में किसानों से दुर्व्यवहार के मामले में कार्रवाई के बाद कांग्रेस ने कहा कि अब तो सरकार ने भी मान लिया है कि किसानों से दुर्व्यवहार हुआ है। इस घटना की जिम्मेदारी लेते हुए गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह को इस्तीफा दे देना चाहिए, उन्हें अब पद पर रहने का नैतिक आधार नहीं है। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा, "अंतत: सरकार ने भी यह स्वीकार लिया है कि टीकमगढ़ के थाने में किसानों के न केवल कपड़े उतरवाए गए, बल्कि उनके साथ दुर्व्यवहार भी हुआ। किसानों के साथ हुई इस घटना से प्रदेश पूरे देश में शर्मसार हुआ है।"

ये भी देखें: टीकमगढ़ : किसानों को अर्धनग्न करने वाले थानेदार को हटाया

हाल ही में टीकमगढ़ जिले में कांग्रेस के नेतृत्व में आयोजित प्रदर्शन में हिस्सा लेकर लौट रहे किसानों को देहात थाने की पुलिस ने हवालात में बंद कर कपड़े उतरवा लिए थे। मामले के तूल पकड़ने पर किसानों को कपड़े देकर छोड़ दिया गया था। बाद में गृहमंत्री सिंह ने जांच के आदेश दिए थे।

नेता प्रतिपक्ष सिंह ने कहा कि कल तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, गृहमंत्री और भाजपाध्यक्ष टीकमगढ़ में हुए किसान आंदोलन के दौरान गिरफ्तार किसानों के थाने में कपड़े उतरवाने की घटना को कांग्रेस की नौटंकी बता रहे थे। आज गृहमंत्री ने थाना प्रभारी को जिले से बाहर कर और पूरे थाने को लाइन अटैच कर यह स्वीकारा है कि यह कृत्य उनकी सरकार का ही है।

सिंह ने आगे कहा कि इसके पहले मंदसौर जिले के पिपल्या मंडी में किसानों की छाती पर गोली चलाने के बाद भी गृहमंत्री ने गैर जिम्मेदराना बयान दिया था। ऐसे व्यक्ति को कानून व्यवस्था से जुड़े विभाग का मंत्री पद पर बने रहने का अधिकार नहीं है। गृहमंत्री को तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि टीकमगढ़ की घटना ने पूरे देश में मध्यप्रदेश को शर्मसार किया है। अन्नदाता किसानों के साथ सरकार का यह व्यवहार अंग्रेजों जैसा था। सरकार ने हालांकि अभी तक उस जांच रिपोर्ट का खुलासा नहीं किया है, जो उसने तीन दिन में करवाने का ऐलान किया था।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story