Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

केंद्रीय मंत्री की कार ओवरटेक करना पर्यटकों को पड़ा महंगा, थाने में गुजारे घंटों

पंचलिंगेश्वर से कोलकाता जा रहे परिवार को उस वक़्त अपने किए पर पछतावा हुआ जब उन्होंने बिना देखे राज्यमंत्री प्रताप चंद्र सारंगी के काफिले को ओवरटेक किया। जिसके चक्कर में उन्हें अपने 5 घंटे पुलिस स्टेशन में गवाने पड़े।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 22 Feb 2021 4:18 AM GMT

केंद्रीय मंत्री की कार ओवरटेक करना पर्यटकों को पड़ा महंगा, थाने में गुजारे घंटों
X
केंद्रीय मंत्री कार को किया ओवरटेक, पर्यटकों को पड़ा महंगा, पुलिस ने घंटों थाने में बैठाया
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भुवनेश्वर: पंचलिंगेश्वर से कोलकाता जा रहे परिवार को उस वक़्त अपने किए पर पछतावा हुआ जब उन्होंने बिना देखे राज्यमंत्री प्रताप चंद्र सारंगी के काफिले को ओवरटेक किया। जिसके चक्कर में उन्हें अपने 5 घंटे पुलिस स्टेशन में गवाने पड़े।

राज्यमंत्री की कार को किया ओवरटेक

दरअसल, ओडिशा के राष्ट्रीय राजमार्ग 16 पर एमएसएमई राज्यमंत्री प्रताप चंद्र सारंगी का काफिला जा रहा था। अचानक राज्यमंत्री के काफिले को दो कार ने ओवरटेक किया। वह कार बड़ी तेज़ी से राज्यमंत्री के काफिले से आगे निकली। जिसके चलते मंत्री ने एस्कॉर्ट गाड़ी को पर्यटकों की कार के पीछे लगा दिया।

बस्ता पुलिस थाने में पांच घंटे बिठाया

एस्कॉर्ट गाड़ी ने करीब 20 किलोमीटर दूर पीछा कर पर्यटकों की कार को रुकवाया। जिसके बाद उन्हें बस्ता पुलिस थाने में लाया गया। पर्यटकों को जल्दबाजी के चक्कर में अपनी पांच घंटे बर्बाद करने पड़े। जिसके बाद उन्हें आगे से ऐसी ग़लती ना करने की सलाह देकर थाने में हस्ताक्षर करने के बाद ​छोड़ दिया गया।

ये भी पढ़ें : झटका खाकर 10 फुट नीचे गिरी लिफ्ट, कमलनाथ समेत कई कांग्रेस नेता थे सवार

परिवार जा रहा था कोलकाता

आपको बता दें, यह परिवार कोलकाता का बताया जा रहा है। परिवार का मुखिया संतोष अपने भाई, पत्नी और दो बच्चों के साथ बालासोर जिले के पंचलिंगेश्वर से अपने घर कोलकाता दो कारों से लौट रहे थे। जब उनके साथ अनजाने ऐसा वाख्या हो गया।

जब उनकी राष्ट्रीय राजमार्ग 16 पर बास्ता थाना क्षेत्र में पहुंची, तो उन्हें पीछे से सायरन की आवाज सुनाई दी। संतोष को लगा ये कोई एम्बुलेंस की आवाज़ है, इसलिए उन्होंने तुरंत रास्ता दे दिया , लेकिन बाद में उन्हें पता लगा की वह कार राज्यमंत्री के काफिले का था।

ये भी पढ़ें : बरनाला: किसान-मजदूर एकता महारैली, इस दिन दिल्ली की तरफ रुख करेंगे किसान

Monika

Monika

Next Story