तीन तलाक पर जो बोर्ड का निर्णय वही दारुल उलूम का : मुफ्ती अबुल कासिम

Published by Rishi Published: December 24, 2017 | 8:15 pm

सहारनपुर : आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक में तीन तलाक के खिलाफ सरकार के प्रस्तावित बिल को मुस्लिम पर्सलन लॉ बोर्ड में दखल-अंदाजी करार देते हुए नकार दिया गया। बोर्ड के फैसले का खुला समर्थन करते हुए विश्व प्रसिद्ध इस्लामिक शिक्षण संस्था दारुल उलूम देवबंद के मोहतमिम मुफ्ती अबुल कासिम नौमानी ने कहा कि जो फैसला बोर्ड ने लिया है वहीं उनका भी फैसला है।

तीन तलाक के खिलाफ सरकार द्वारा तैयार किये गए बिल को केबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद हरकत में आए आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने रविवार को प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आपात बैठक का आयोजन कर सरकार के प्रस्तावित बिल को नामंजूर कर दिया। बोर्ड की शूरा ने सरकार के बिल को औरतों के हुकूक के खिलाफ बताते हुए इसे मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड में दखलअंदाजी करार दिया।

ये भी देखें :तीन तलाक पर केंद्र की मोदी सरकार का बिल AIMPLB को नहीं मंजूर

तीन तलाक पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का फैसला सामने आने के बाद दारुल उलूम देवबंद के मोहतमिम मुफ्ती अबुल कासिम नौमानी ने कहा कि हम बोर्ड के फैसले का खुला समर्थन करते हैं। कहा कि दारुल उलूम इस बात की घोषणा पहले ही कर चुका है कि जो फैसला मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का होगा वहीं दारुल उलूम का भी फैसला होगा। कहा कि देश के संविधान ने सभी धर्म के मानने वालों को अपने अपने धर्म के हिसाब से जीवन यापन करने की पूरी छूट दी है। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड भी संविधान के उसी अधिकार के तहत अपनी मांग सरकार के सामने रख रहा है। जिस पर सरकार को अवश्य ध्यान देना चाहिए।