×

भारत पहुंचीं 2 एम-777 होवित्जर तोपें, Make in India के तहत देश में ही बनेंगी 120 तोपें

aman

amanBy aman

Published on 18 May 2017 11:31 AM GMT

भारत पहुंचीं 2 एम-777 होवित्जर तोपें, Make in India के तहत देश में ही बनेंगी 120 तोपें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: तोपों की कमी से जूझ रही भारतीय सेना को गुरुवार (18 मई) को दो एम777 अल्ट्रालाइट होवित्जर तोपें मिलीं। इसका निर्माण करने वाली कंपनी ने कहा, है कि एम777 के साथ ही भारतीय सेना का तीन दशक लंबा इंतजार खत्म होने को है। बीएई सिस्टम्स के मुताबिक, दो 155 मिलीमीटर/39 कैलिबर अल्ट्रालाइट होवित्जर तोप चार्टर्ड विमान से अमेरिका से नई दिल्ली पहुंचीं। दोनों तोपों की क्षमता की जांच के लिए उन्हें राजस्थान के पोखरण ले जाया जाएगा।

अगले कुछ वर्षों में 23 और तोप भारत लाए जाएंगे। साथ ही अन्य 120 तोपों का निर्माण भारत में महिंद्रा कंपनी के सहयोग से होगा। इन तोपों का वजन 4.2 टन है और यह सामान्य 155 मिलीमीटर होवित्जर तोपों के वजन का मात्र एक तिहाई है। इसकी अधिकतम मारक क्षमता 30 किलोमीटर है।

इसे हेलीकॉप्टर की मदद से ढोया जा सकता है

एम777 तोपों को हेलीकॉप्टर की मदद से ढोया जा सकता है। इससे खासकर पहाड़ी इलाकों में अभियान चलाने में यह सेना की खासी मदद कर सकता है।उल्लेखनीय है कि भारत ने विदेश सैन्य बिक्री (एफएमएस) मार्ग के माध्यम से 145 एम777 तोप खरीदने के लिए बीते साल 30 नवंबर को अमेरिका के साथ लेटर ऑफ एग्रीमेंट एंड एक्सेप्टेंस पर हस्ताक्षर किया था। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 17 नवंबर को इस बहुप्रतीक्षित सौदे को मंजूरी दे दी थी, जो भारतीय सेना की ताकत में इजाफा करेगा। तोपों का यह ठेका 73.7 करोड़ डॉलर का है।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story