×

Udaipur Murder Case: उदयपुर में ऐसे रची गई कन्हैयालाल के हत्या की साजिश, जिहादियों ने पाक से ली ट्रेंडिंग

Udaipur Murder Case Update : कन्हैया लाल हत्याकांड मामले में जांच करते हुए एनआईए ने कई बड़े खुलासे किए हैं। वहीं, इस मामले को लेकर राजस्थान सरकार भी लगातार बड़े एक्शन ले रही है।

Bishwa Maurya
Written By Bishwa Maurya
Updated on: 3 July 2022 10:42 AM GMT
Udaipur Kanhaiyalal Murder Case
X

Udaipur Kanhaiyalal Murder Case (Image Credit : Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Udaipur Kanhaiyalal Murder Case : उदयपुर में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) के बयान का समर्थन करने वाले टेलर कन्हैयलाल की जिहादियों ने तालिबानी ढंग से गला रेत कर निर्मम हत्या कर दी। जिसके बाद से ही देशभर में तनाव की स्थिति बनी हुई है। वहीं, अब मामले की गंभीरता को देखते हुए कन्हैयालाल हत्याकांड (Kanhaiyalal Murder) मामले की जांच राजस्थान पुलिस (Rajasthan Police) के अलावा राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने भी शुरू कर दी है। मामले में पूछताछ करने के लिए हत्या के दोनों आरोपी गौस मोहम्मद और रियाज को एनआईए ने अपनी कस्टडी में लिया हुआ है। आइए जानते हैं इस मामले में शुरू से अब तक क्या-क्या हुआ।

उदयपुर हत्याकांड (Udaipur Murder)

उदयपुर में टेलर का काम करने वाले कन्हैयालाल की मंगलवार को दोपहर दो युवकों ने धारदार हथियार से गला रेत कर निर्मम हत्या कर दी थी। हत्या की वारदात को अंजाम तब दिया गया जब कन्हैया लाल ने नूपुर शर्मा द्वारा पैगंबर मोहम्मद पर दिए गए बयान का सोशल मीडिया पर पोस्ट कर समर्थन किया। सोशल मीडिया पर नूपुर शर्मा के बयान का समर्थन करने के बाद से ही कन्हैयालाल को लगातार धमकियां मिल रही थी। मंगलवार को दोपहर के वक्त गौस मोहम्मद और मोहम्मद रियाज नाम से दो युवक अपना कपड़ा सिलवाने के लिए नाप देने कन्हैया लाल की दुकान में आते हैं। इस दौरान जब कन्हैया एक शख्स का नाप ले रहे होते हैं, तभी दूसरा युवक उनसे मारपीट शुरू कर देता है और थोड़ी देर बाद यह दोनों युवक मिलकर कन्हैयालाल के गले को धारदार हथियार से रेत देते हैं जिसके तुरंत बाद ही मौत हो जाती है।

उदयपुर कन्हैया लाल हत्याकांड के आरोपियों ने इस तालिबानी वारदात को अंजाम देते हुए पूरे घटना का वीडियो रिकॉर्ड किया और बाद में उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया। जिहादियों द्वारा इस तरह से एक शख्स की हत्या कर हत्या का वीडियो सोशल मीडिया पर डालने से राजस्थान समेत पूरे देश में आक्रोश का माहौल फैल गया। तत्परता से मामले की जांच करते हुए राजस्थान पुलिस ने हत्या के दोनों आरोपी रियाज और गौस मोहम्मद को गिरफ्तार कर लिया।

कन्हैया लाल की हत्या के बाद राजस्थान में धारा 144 लागू

उदयपुर में टेलर कन्हैया लाल की हत्या के बाद राजस्थान सरकार ने तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए पूरे राज्य में 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया। वहीं, उदयपुर में सबसे अधिक तनावपूर्ण स्थिति होने के कारण यहां कर्फ्यू लगा दिया गया जबकि पूरे राजस्थान में स्थिति अनियंत्रित होता देख सरकार ने अगले 1 महीने के लिए धारा 144 लगाने का ऐलान कर दिया।

उदयपुर हत्याकांड की जांच कर रही एनआईए

उदयपुर हत्याकांड के कारण देश में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए राजस्थान पुलिस के साथ राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने भी इस मामले की जांच शुरू कर दी। बीते दिन मामले पर सुनवाई के दौरान एनआईए ने कोर्ट से रियाज और गौस मोहम्मद तथा दो और आरोपियों आसिफ और मोहसिन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत की मांग की थी हालांकि कोर्ट ने कन्हैया लाल हत्याकांड के आरोपियों को 10 दिन की कस्टडी में भेजा है।

एनआईए द्वारा की जा रही उदयपुर हत्याकांड की शुरुआती जांच में इस हत्या का कनेक्शन पाकिस्तान से जुड़ा हुआ पता चला है। दरअसल गौस मोहम्मद और रियाज लंबे वक्त से पाकिस्तानी हैंडलर सलमान हैदर और इब्राहिम के संपर्क में थे। यह पाकिस्तानी हैंडल गौस और रियाज का ब्रेनवाश कर उन्हें भारत में किसी बड़े हमले के लिए तैयार कर रहे थे। एनआईए की जांच में पता चला कि इन्हीं पाकिस्तानी हैंडलरों ब्रेनवाश कर गौस मोहम्मद और रियाज को कन्हैया लाल की हत्या करने के लिए उकसाया। इन पाकिस्तानी हैंडलरों का मकसद था कि इस तालिबानी ढंग से कन्हैया लाल की हत्या कर भारत में अस्थिरता फैलाना।

उदयपुर हत्याकांड की जांच करते हुए एनआईए ने यह भी बड़ा खुलासा किया कि हत्या में शामिल गौस मोहम्मद पाकिस्तान तथा सऊदी अरब जैसे देशों का यात्रा भी कर चुका है। दरअसल पाकिस्तान के एक संगठन दावत-ए-इस्लामी ने 2014 में गौस मोहम्मद को पाकिस्तान के कराची बुलाया था। जिसके बाद गौस मोहम्मद कराची गया भी था। इस दौरान उसने करीब 40 दिन तक कराची में रहकर कई तरह की ट्रेनिंग ली और बाद में वापस भारत लौट आया। एनआईए द्वारा की जा रही जांच में अब तक यह बात पूरी तरह साफ हो चुका है कि यह हत्याकांड भारत में अस्थिरता फैलाने वाले संगठनों के इशारे पर किया गया है।

राजस्थान पुलिस और सरकार ने अब तक क्या किया

उदयपुर हत्याकांड की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी के साथ-साथ राजस्थान पुलिस भी कर रही है। पुलिस ने अब तक इस मामले में जांच करते हुए हत्या के दो मुख्य आरोपी गौस मोहम्मद और रियाज को गिरफ्तार किया है। वहीं, पुलिस की जांच में यह भी सामने आया कि हत्या को अंजाम देने के पहले कई बार मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद तथा दो अन्य मोहसीन तथा आसिफ नाम के युवकों के बीच मीटिंग हुई थी। पुलिस ने आसिफ तथा मोहसीन से इनको भी हत्या में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इन सभी आरोपियों को अजमेर की एक हाई सिक्योरिटी जेल में अलग अलग रखा गया है।

उदयपुर हत्याकांड को लेकर राजस्थान सरकार भी लगातार एक्शन में नजर आ रही है। मामले पर कार्रवाई करते हुए राजस्थान सरकार ने उदयपुर के आईजी व एसपी का तबादला कर दिया। वहीं, इस मामले में लापरवाही की जानकारी सामने आने पर सरकार ने एएसआई सस्पेंड भी कर दिया है। दरअसल हत्या के पहले कन्हैयालाल को कई बार जान से मारने की धमकी मिली थी, जिसकी शिकायत उन्होंने पुलिस में की भी थी। मगर कन्हैया लाल के शिकायत को पुलिस ने गंभीरता से नहीं लिया और कुछ दिन बाद ही जिहादियों निर्मम तरीके से कन्हैया लाल की हत्या कर दी।

Bishwa Maurya

Bishwa Maurya

Next Story