उन्नाव रेप केस! हार गई जिंदगी की जंग, भाई से कही ये अंतिम बात

चर्चित उन्नाव गैंगरेप की पीड़िता का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में देर रात निधन हो गया, सफदरजंग अस्पताल के प्रवक्ता ने उन्नाव रेप पीड़िता के निधन की पुष्टि की है।

नई दिल्ली: चर्चित उन्नाव गैंगरेप की पीड़िता का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में देर रात निधन हो गया, पीड़िता को एयरलिफ्ट करके लखनऊ से दिल्ली लाया गया था। बताया जा रहा है कि पीड़िता का शरीर 95 फीसदी जल चुका था।

आपको बता दें कि सफदरजंग अस्पताल के प्रवक्ता ने उन्नाव रेप पीड़िता के निधन की पुष्टि की है।

डॉ. शलभ कुमार ने बताया…

दरअसल, सफदरजंग अस्पताल के बर्न एंड प्लास्टिक सर्जरी डिपार्टमेंट के हेड डॉ. शलभ कुमार के मुताबिक पीड़िता को हमारे बड़े प्रयासों के बावजूद बचाया नहीं जा सका है।

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि शाम में ही उसकी हालत खराब होनी शुरू हो गई थी, रात 11.10 बजे उसे कार्डियक अरेस्‍ट आया। हमने इलाज शुरू किया और उसे बचाने की पूरी कोशिश की, लेकिन रात में 11.40 बजे उसकी मौत हो गई।

मैं जीना चाहती हूं…

डॉ. शलभ ने बताया कि फिलहाल पीड़िता के शव को मोर्चरी में भेज दिया गया है, अस्पताल में मौजूद पीड़िता की मां, बहन और भाई को इसके बारे में बता दिया गया है।

बता दें कि पीड़िता ने मरने से पहले अपने भाई से कहा था कि मैं जीना चाहती हूं, पीड़िता ने यह भी कहा था कि दोषियों को सख्त से सख्त सजा दी जानी चाहिए।

इससे पहले, पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट जारी की गई थी। रिपोर्ट के मुताबित रेप पीड़िता के शरीर पर कोई बाहरी या आंतरिक चोट नहीं मिली थी, सिर्फ जलने के साक्ष्य मिले थे।

वहीं, यूपी के आईजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रवीण कुमार ने भी कहा था कि पीड़िता को जलाने से पहले या बाद में चाकू मारने या हिंसा की बात नहीं है।

पुलिस ने 5 आरोपियों को किया गिरफ्तार…

वहीं, इस मसले में पुलिस ने गैंगरेप पीड़िता को जलाने के मामले में पांचों आरोपियों को गिरफ्तार किया है, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले में संज्ञान लेते हुए पीड़िता के इलाज में मदद और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के आदेश दिए थे।
आखिरी शब्द- मैं जीना चाहती हूं

आपको ये भी बताते चलें कि शुक्रवार को इलाज के दौरान पीड़िता ने अपने भाई से कहा था कि मैं मरना नहीं चाहती हूं, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि दोषियों को बिल्कुल भी छोड़ना नहीं है।