‘जेम’ पोर्टल पर सर्वोत्तम खरीदार राज्य के लिए यूपी को केंद्र सरकार ने किया पुरस्कृत

जेम’ पोर्टल पर सर्वोत्तम खरीदार राज्य के लिए उत्तर प्रदेश को केंद्र सरकार द्वारा पुरस्कृत किया गया है। प्रदेश के प्रमुख सचिव, खादी एवं एमएसएमई नवनीत सहगल ने प्रदेश सरकार की ओर से केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पियूष गोयल से दिल्ली में एक समारोह में ये पुरस्कार ग्रहण किया।

लखनऊ: ‘जेम’ पोर्टल पर सर्वोत्तम खरीदार राज्य के लिए उत्तर प्रदेश को केंद्र सरकार द्वारा पुरस्कृत किया गया है। प्रदेश के प्रमुख सचिव, खादी एवं एमएसएमई नवनीत सहगल ने प्रदेश सरकार की ओर से केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पियूष गोयल से दिल्ली में एक समारोह में ये पुरस्कार ग्रहण किया।

बता दें कि भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के तहत दिव्यांगजन पुनर्वास के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश को सर्वोत्तम राज्य के पुरस्कार के लिए चुना गया था। देश के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने आज 3 दिसंबर को नई दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान उत्तर प्रदेश को प्रदत्त सर्वोत्तम राज्य के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा यूपी को दो अन्य वर्गों में भी पुरस्कृत किया गया था।

ये भी देखें : इस महिला गेंदबाज ने तोड़े सबके रिकॉर्ड, रच दिया इतिहास 

उपराष्ट्रपति ने किया सम्मानित

दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के अपर मुख्य सचिव महेश कुमार गुप्ता राज्य सरकार की ओर से नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित समारोह में उप राष्ट्रपति से यह पुरस्कार ग्रहण किया गया । उत्तर प्रदेश को सर्वोत्तम राज्य का पुरस्कार सुगम्य भारत अभियान के क्रियान्वयन के लिए प्रदान किया गया था।

इसके अतिरिक्त, दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग की वेबसाइट को सर्वोत्तम दिव्यांगजन हितैषी वेबसाइट के लिए चुना गया है। सर्वश्रेष्ठ पुनर्वास सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए वाराणसी जनपद को सर्वोत्तम पुरस्कार प्रदान किया गया था।

ये भी देखें : भारत से डरे चीनी! भारतीय नौसेना ने खदेड़ा चीनी जलपोत,अलर्ट पर जवान 

वाराणसी के तत्कालीन जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह भी हुए सम्मानित

भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश के दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के अपर मुख्य सचिव को पुरस्कार ग्रहण के लिए विज्ञान भवन में आयोजित समारोह में आमंत्रित किया गया था। साथ ही, वाराणसी जिले को सर्वश्रेष्ठ पुनर्वास सेवाएं उपलब्ध कराने के क्षेत्र में पुरस्कार ग्रहण करने के लिए वाराणसी के तत्कालीन जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह को आमंत्रित किया गया था।