×

वरुण के निशाने पर अब चुनाव आयोग, बताया बिना दांतों और शक्तियों वाला संस्थान

aman

amanBy aman

Published on 14 Oct 2017 8:45 AM GMT

वरुण के निशाने पर अब चुनाव आयोग, बताया बिना दांतों और शक्तियों वाला संस्थान
X
गोरखपुर हादसे से वरुण है दुखी, सुल्तानपुर में बाल केंद्र के लिए दिए 5 करोड़
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 'फायर ब्रांड' नेता और सांसद वरुण गांधी ने एक बार फिर अपनी ही पार्टी के खिलाफ बगावती बोल बोले हैं। वरुण गांधी ने चुनाव आयोग की भूमिका पर सवाल उठाते हुए उसे 'बिना दांतों और शक्तियों वाला संस्थान' बताया। गौरतलब है, कि शुक्रवार को ही मोदी सरकार में मंत्री रविशंकर प्रसाद ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान चुनाव आयोग को 'स्वतंत्र संस्था' बताया था।

आज एक कार्यक्रम में वरुण गांधी ने कहा, कि 'चुनाव आयोग के साथ सबसे बड़ी समस्या है कि यह वास्तव में एक बिना दांतों वाला शेर है।' इस दौरान वरुण ने संविधान का भी हवाला दिया। कहा, 'आर्टिकल- 324 के अनुसार चुनाव आयोग का काम चुनाव कराने, चुनाव की प्रक्रिया को नियंत्रित करने का है। क्या सच में ऐसा होता है?'

ये भी पढ़ें ...BJP का ‘विकास’ पैदा ही नहीं हुआ, तो मरेगा कैसे : लालू यादव

आयोग की सीमित शक्तियों पर भी कटाक्ष

बीजेपी सांसद ने आगे कहा, 'चुनाव आयोग के पास चुनाव संपन्न होने के बाद केस दर्ज करने का भी अधिकार नहीं है। ऐसा करने के लिए आयोग को सुप्रीम कोर्ट के पास जाना होता है।'

ये भी पढ़ें ...PM मोदी बोले- 20 यूनिवर्सिटी के लिए केंद्र की 10,000 Cr. की योजना



aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story