×

हिमाचल चुनाव 2017: विद्या स्टोक्स के लिए कोटखाई गैंगरेप मर्डर बना 'नासूर'

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 22 Oct 2017 3:58 PM GMT

हिमाचल चुनाव 2017: विद्या स्टोक्स के लिए कोटखाई गैंगरेप मर्डर बना नासूर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

शिमला : हिमाचल की राजनीति में यदि विद्या स्टोक्स का नाम न हो तो लगता नहीं की कोई बात हो रही है। सूबे की सिंचाई मंत्री अपनी ईमानदारी के लिए पहचानी जाती है। ठियोग कुमारसेन विद्या के नाम से पहचाना जाता है। विद्या के ससुर सत्यानंद स्टोक्स अमेरिका से भारत आए और शिमला के होकर रह गए। हिमाचल में सेब लाने का श्रेय इन्हें ही जाता है। सत्यानंद शिमला के जाने माने समाजसेवी थे। विद्या ने राजनीति में उनके नाम पर ही सफलता अर्जित की। इस बार 89 वर्ष की विद्या अपना अंतिम चुनाव लड़ रहीं हैं। लेकिन उनका ये चुनाव जीत पाना मुश्किल नजर आ रहा है।

ये बात विद्या को भी अच्छी तरह पता है। और वो बार-बार कह भी रही हैं कि उन्हें चुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं। विद्या चाहती हैं कि सीएम वीरभद्र सिंह ठियोग से चुनाव लड़ें। लेकिन सीएम साहेब भी हिम्मत नहीं जुटा पाए। वीरभद्र ने शुक्रवार को अर्की से नामांकन भर दिया।

ये भी देखें: हिमाचल चुनाव 2017: युवाओं का वोट तो चाहिए, लेकिन टिकट नहीं देंगे

अब विद्या को ठियोग से चुनावी वैतरणी पार करनी है। कोटखाई गैंगरेप मर्डर ठियोग विधायक विद्या स्टोक्स के लिए गले की फ़ांस बन चुका है। इलाके में उनका विरोध चरम पर है।

जनता के गुस्से को विरोधी दल भुना स्टोक्स को किनारे लगाने का प्लान बना चुके हैं। बीजेपी ने राकेश वर्मा तो माकपा ने राकेश सिंघा को मैदान में उतारा है। विद्या भले ही सिटिंग विधायक हों लेकिन वर्मा और सिंघा ने उनकी ऐसी घेराबंदी कर दी है कि उनका हारना लगभग तय है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story