वर्जिन समूह के फाउंडर रिचर्ड ने CM उद्धव से की मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई बात

ब्रिटेन स्थित वर्जिन ग्रुप के संस्थापक सर रिचर्ड ब्रैनसन ने गुरूवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ शिष्टाचार भेंटवार्ता की। यह भेंटवार्ता महाराष्ट्र मुख्यमंत्री कार्यालय में संपन्न हुई।

मुंबई: ब्रिटेन स्थित वर्जिन ग्रुप के संस्थापक सर रिचर्ड ब्रैनसन ने गुरूवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ शिष्टाचार भेंटवार्ता की। यह भेंटवार्ता महाराष्ट्र मुख्यमंत्री कार्यालय में संपन्न हुई। भेंटवार्ता में मुख्य सचिव अजय मेहता, प्रधान सचिव भूषण गगरानी एवं आदित्य ठाकरे सहित वर्जिन ग्रुप के अधिकारी भी मौजूद थे।

ये भी पढ़ें…उद्धव बने शेर! सीएम बनते ही किये ये ताबड़तोड़ फैसले  

मुंबई-पुणे हाइपरलूप परियोजना पर हुई चर्चा

इस भेंटवार्ता में वर्जिन ग्रुप के संस्थापक रिचर्ड ब्रैनसन ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से 10 अरब डॉलर की मुंबई-पुणे हाइपरलूप परियोजना पर चर्चा की। बता दे कि कि श्री ठाकरे ने कार्यभार संभालने के बाद, कई परियोजनाओं की समीक्षा शुरू कर दी थी, जिससे यह अटकलें लग रही थीं कि वह हाइपरलूप और बुलेट प्रोजेक्ट परियोजनाओं को रद्द कर सकते हैं।

इस भेंटवार्ता के सन्दर्भ में मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर यह जानकारी दी कि श्री ठाकरे एवं श्री ब्रैनसन के मध्य वर्जिन समूह की विभिन्न परियोजनाओं के कार्यान्वयन के सन्दर्भ में चर्चा हुई।

नयी तकनीक के इस्तेमाल पर भी हुई बात

इस बैठक में इस सन्दर्भ में भी चर्चा हुई कि किस प्रकार निजी वित्त पोषित परियोजनायें राज्य में नयी तकनीक के इस्तेमाल के साथ विदेशी निवेश को बढ़ावा दे सकती हैं। इस बैठक में महाराष्ट्र में निजी क्षेत्र द्वारा किस प्रकार स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर पैदा किये जा सकते हैं, इस विषय पर भी चर्चा हुई।

श्री ब्रैनसन ने अपने एक बयान में कहा कि “मैं हमेशा से भारतीयों की उद्यमशीलता की भावना से प्रेरित रहा हूँ। मैं बहुत उत्साहित हूं कि उन्होंने हाइपरलूप अवधारणा को अपनाया है और इस क्षेत्र के लिए नए और टिकाऊ परिवहन बनाने के हमारे दृष्टिकोण को साझा किया है।”

इस बैठक से एक दिन पूर्व श्री ब्रैनसन ने कहा था कि वह परियोजना पर “कोई गलतफहमी दूर करने” के लिए सीएम से मिलेंगे। उन्होंने कहा, ” हमें बस यह देखने की जरूरत है कि क्या नई सरकार उतनी ही उत्सुक है जितनी पुरानी सरकार थी। ”

ये भी पढ़ें…उद्धव का बड़ा फैसला: मराठों को तोहफा और आर मामले में लिया डिसीजन

अगस्त -2019 में देवेंद्र फड़नवीस ने दी थी मंजूरी

अगस्त 2019 में, तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के तहत मंत्रिमंडल ने मुंबई और पुणे के बीच एक हाई-स्पीड लाइन विकसित करने के लिए वर्जिन हाइपरलूप वन की योजना को मंजूरी दी थी, जो दुनिया का पहला हाइपरलूप बन सकता है।

इस परियोजना के निर्माण के लिए दुबई के वर्जिन हाइपरलूप वन और डीपी वर्ल्ड के एक कंसोर्टियम को अनुमति दी गई थी। जून 2018 में, पूर्व मुख्यमंत्री श्री फड़नवीस ने अमेरिका के नेवादा में हाइपरलूप परीक्षण स्थल का दौरा भी किया था।

हाइपरलूप प्रणाली द्वारा मार्गों के सञ्चालन हेतु दुनिया भर के कई देशों में काम चल रहा है। वर्जिन समूह दुबई एवं आबू धाबी में हाइपरलूप प्रणाली द्वारा मार्ग निर्माण में जुटा हुआ है।

एलोन मस्क की इंफ्रास्ट्रक्चर फर्म, द बोरिंग कंपनी, को वाशिंगटन डीसी को एक सुरंग के माध्यम से न्यूयॉर्क से जोड़ने की अनुमति प्राप्त है और एक अन्य लिंक मैक्सिको सिटी और मेक्सिको में ग्वाडलाजारा के बीच मार्ग पर योजना बन रही है।

हाइपरलूप तकनीक की कल्पना एलोन मस्क ने 2013 में की थी। 2014 में स्थापित वर्जिन हाइपरलूप वन भी इस प्रणाली पर काम करने वाली कंपनियों में से एक है। वर्जिन हाइपरलूप ने कार्गो हाइपरलूप नेटवर्क बनाने के लिए डीपी वर्ल्ड तथा फोस्टर प्लस पार्टनर्स के साथ भी सहयोग किया है।

ये भी पढ़ें…अपनी बात पर कायम रहना मेरा हिंदुत्व: उद्धव ठाकरे