×

वीवी पैट पर कदम अचानक पीछे खींचने पर सियासी बवाल के आसार

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 16 Oct 2017 4:36 PM GMT

वीवी पैट पर कदम अचानक पीछे खींचने पर सियासी बवाल के आसार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : हिमाचल प्रदेश चुनाव की तारीखों का ऐलान करते वक्त भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त अचल कुमार ज्योति ने जिस वीवी पैट यानी मतदान करते वक्त वोट की स्लिप की भी समानांतर ढंग से मतगणना करवाने का ऐलान किया था। आज आयोग ने खुद ही अपनी इस घोषणा की हवा निकाल दी। उसने कह दिया कि ऐसा एक चुनाव क्षेत्र के एक बूथ में ही प्रयोग के बतौर होगा। आयोग की इस ताजा घोषणा पर सियासी हल्कों में और भी बवाल मचने के आसार बढ़ गए हैं।

ये भी देखें:JDU नेता ने गुजरात में चुनाव की तिथि को लेकर उठाए सवाल

चुनाव आयोग ने अपने कदम पीछे खींचते हुए कह दिया कि एक चुनाव क्षेत्र में किसी भी एक बूथ से ही मशीन से निकाली गई पर्चियां गिनी जाएंगी। सारे बूथों की नहीं। चुनाव आयोग की ओर से हिमाचल व गुजरात के निर्वाचन अधिकारियों को एक पत्र लिखकर बता दिया गया है कि आयोग के इस फैसले के बारे में सभी संबद्ध पक्षों को जानकारी दें।

आयोग ने कहा है कि इस बारे में विस्तृत निर्देश बाद में जारी किए जाएंगे।

ज्ञात रहे कि मुख्य चुनाव आयुक्त ने हिमाचल प्रदेश के चुनाव कार्यक्रम घोषित करते हुए एलान किया था कि हिमाचल व गुजरात विधानसभा चुनाव में इस बार सभी वोटिंग मशीनों के साथ वीवी पैट यानी वोटर वेरिफियेबिल पेपर ऑडिट ट्रायल की पर्ची साथ में लगी प्रिंटिंग मशीन से निकाली जा सकेगी। जिससे कि किस बूथ पर किसको वोट मिला उसका ब्यौरा सुरक्षित रखा जा सके।

ये भी देखें:शाह ने गुजरात में 150 से ज्यादा सीट जीतने का रखा लक्ष्य

आयोग ने अब कह दिया है कि वोटिंग के प्रमाण की यह व्यवस्था मात्र प्रयोग के तौर पर आरंभ की जा रही है। ज्ञात रहे कि आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में भी यह वचन दिया है कि चुनावों को स्वतंत्र व निष्पक्षता से संपन्न कराने के लिए वह सभी भावी चुनावों में वीवी पैट का इस्तेमाल करेगा। आयोग के एक अधिकारी ने कहा कि यह निर्णय सोच समझकर लिया गया क्योंकि इतने बड़े देश के सभी प्रदेशों के चुनाव क्षेत्रों में एक साथ मशीनों की गिनती और वीवी पैट की गिनती एक साथ की गई तो इस पूरी कसरत में भारी संसाधन व लोगों की जरूरत को पूरा करना आयोग के बूते के बाहर की बात होगी।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story