मांझी से कम नहीं ये महिलाएं, पहाड़ काट ऐसे बनाया रास्ता, लोग कर रहे तारीफ

इन 250 महिलाओं ने पहाड़ को काटकर एक ऐसा रास्ता बनाया है, जिससे उनके गांव के तालाब में पानी आ सके। 18 महीने की कड़ी मेहनत तब रंग लाई जब उनके काटे गए पहाड़ के रस्ते तालाब में पानी भरने लगा।

Published by Monika Published: September 27, 2020 | 7:42 pm
छतरपुर की महिलाएं

छतरपुर की महिलाएं(file pic )

अगर आपके अन्दर कुछ कर गुजरने की चाहत हैं तो आपको फर्क नहीं पड़ेगा की रास्ता कितना कठिन हैं, या सफलता के रास्तें पर चलने पर आपको किन-किन चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। ऐसी ही मिसार दी है छतरपुर जिले के अंगरोठा गांव की इन महिलाओं ने।

महिलाओं की सफल कोशिश

इन 250 महिलाओं ने पहाड़ को काटकर एक ऐसा रास्ता बनाया है, जिससे उनके गांव के तालाब में पानी आ सके। 18 महीने की कड़ी मेहनत तब रंग लाई जब उनके काटे गए पहाड़ के रस्ते तालाब में पानी भरने लगा। वहीं, एक ग्रामीण ने कहा, ‘हमारे गांव में पानी की समस्या है। हमारे गांव की 250 महिलाओं ने तालाब में पानी लाने के लिए ऐसा काम किया।’

ऐसे किया तालाब का निर्माण

तालाब में पाने देख सभी गांव वालों के चहरे फिर से खिल उठे।वह के निवासी का कहना हैं कि पहली वह बारिश का पानी बह कर बिकल जाता था लेकिन अब इस पानी को सहेज कर इन महिलाओं ने गांव की दशा और दिशा दोनों ही बदल दी हैं। 10 साल पहले 40 एकड बुन्देलखंड पैकेज का तहत इस तालाब का निर्माण कार्य शुरू हुआ था। लेकिन इस तालाब में बारिश का पानी ना आने से तालाब सुखा ही रहता था। जिसके बाद इन महिलाओं में मिल कर पहाड़ को काटकर इस 40 एकड तालाब में पानी भर दिया।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App