×

Amritsar Border: BSF की महिला जवानों ने मार गिराए दो पाकिस्तानी ड्रोन, सम्मानित की जाएंगी दोनों जवान

Amritsar Border: पाकिस्तान से भारत की ओर भेजी गई नशे की एक बड़ी खेप को बॉर्डर पर तैनात BSF के जवानों ने शूट कर नीचे गिरा दिया। ड्रोन को मार कर गिराने वाली 2 महिला BSF जवान हैं।

Krishna Chaudhary
Published on: 29 Nov 2022 7:48 AM GMT
Women soldiers of BSF shot down two Pakistani drones at Amritsar border, both soldiers will be honored
X

BSF की महिला जवानों ने मार गिराए दो पाकिस्तानी ड्रोन: Photo- Social Media

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Amritsar Border: पंजाब स्थित भारत –पाकिस्तान सीमा (India Pakistan border) के नजदीक सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) को बड़ी सफलता मिली है। बीएसएफ ने पाकिस्तान से भारत की ओर भेजी गई नशे की एक बड़ी खेप को पकड़ लिया है। इसे ड्रोन के जरिए रात के अंधेरे में सीमा पार से भेजा गया गया था। जिसे बॉर्डर पर तैनात बीएसएफ के जवानों ने शूट कर नीचे गिरा दिया। इस बार ड्रोन को मार कर गिराने वाली 2 महिला बीएसएफ जवान हैं। ड्रोन के साथ हेरोइन (heroin trafficking) के तीन पैकेट बंधे थे।

सेना द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, अमृतसर के रामदास सेक्टर के अंतर्गत आने वाले गांव चाहढ़पुर में रात 11 बजे करीब ड्रोन की मुवमेंट दर्ज की गई। उस दौरान बीएसएफ की महिला कांस्टेबल प्रीति और भाग्यश्री गश्त पर थीं। ड्रोन को देखते ही उन्होंने उसपर फायरिंग कर दी। करीब 25 राउंड फायर करने के बाद ड्रोन जमीन पर गिर पड़ा।

ड्रोन एक खेत में गिरा था, जिसे सर्च ऑपरेशन के दौरान रिकवर किया गया। चाइनीज ड्रोन में हेरोईन की खेप बंधी थी, जिसे सुरक्षाबलों ने जब्त कर लिया। तीनों पैकेट में तीन किलो से अधिक हेरोइन थी, जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत तकरीबन 21 करोड़ रूपये आंकी जा रही है।

सम्मानित की जाएंगी महिला जवान

बीएसएफ की महिला जवानों की कार्रवाई के बदौलत करोड़ों की हेरोईन नशे के सौदागरों तक जाने से पहले ही बरामद कर ली गई। सीमा सुरक्षा बल के सीनियर अधिकारियों का कहना है कि दोनों ही महिला जवान प्रीति और भाग्य श्री को सम्मानित किया जाएगा। दरअसल, ये पहला मामला है जब सीमा पर महिला जवानों ने पाकिस्तानी ड्रोन को गिराने में सफलता पाई है।

बता दें कि बीएसएफ में 14 साल पहले 2008 में पहली बार महिला प्रहरी की ड्यूटी लगाई गई थी। राजस्थान में श्रीगंगानगर में सबसे पहले सीमा पर बीएसएफ की महिला प्रहरियों को तैनात किया गया था। साल 2012 के बाद बड़ी संख्या में बीएसएफ में महिला प्रहरियों की नियुक्ति की गई।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story