कभी सोचा है 1 सेकेंड में कितने बच्चे होते हैं पैदा, सामने आई हैरान करने वाली रिपोर्ट

जनसंख्या किसी देश के लिए वरदान होती है, लेकिन जब यह अधिकतम सीमा रेखा को पार कर जाती है, तब यह अभिशाप बन जाती है। लोगों को रहने के लिए अब जगह की कमी हो गई है। इसीलिए लोगों को जागरुक करने के लिए हर साल पूरी दुनिया में 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है।

नई दिल्ली: जनसंख्या किसी देश के लिए वरदान होती है, लेकिन जब यह अधिकतम सीमा रेखा को पार कर जाती है, तब यह अभिशाप बन जाती है। लोगों को रहने के लिए अब जगह की कमी हो गई है। इसीलिए लोगों को जागरुक करने के लिए हर साल पूरी दुनिया में 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है।

इस दिन संयुक्त राष्ट्र संघ हर साल कई कार्यक्रम आयोजित करता है। इन कार्यक्रमों को आयोजित करने के पीछे का मकसद यह होता है कि इस दिन लोगों को जनसंख्या बढ़ने के मुद्दों को लेकर जागरूक किया जाए। हर दिवस की तरह इस दिन को भी एक थीम दी जाती है। जनसंख्या का मूल्यांकन करने वाली एजेंसी वर्ल्डओमीटर्स के मुताबिक, खबर बनाए जाने तक दुनिया की आबादी 7,716,632,365 बिलियन यानी 770 करोड़ हो चुकी है।

यह भी पढ़ें…दिल्ली: कांग्रेस के 10 पूर्व विधायक आज सावंत संग अमित शाह से करेंगे मुलाकात

इसके मुताबिक, 142 करोड़ की आबादी वाला देश चीन विश्व में सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला देश है। वहीं 135 करोड़ की जनसंख्या को थामे भारत दूसरे नंबर पर है। आइए हम आपको बताते हैं जनसंख्या से जुड़े फैक्ट्स जो चौंकाने वाले हैं।

-एक रिपोर्ट के मुताबिक, हर दिन एक सेकेंड में 4 बच्चे जन्म लेते हैं, तो वहीं एक सेकंड में 2 लोग मर जाते हैं। यानी जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। जनसंख्या के इतनी तेज़ी से बढ़ने की वजह से माना जा रहा है कि दुनिया में 2050 तक 70 फीसदी आबादी शहरों की ओर रुख कर लेगी।

यह भी पढ़ें…अयोध्या विवाद : SC ने मध्यस्थता प्रक्रिया पर एक हफ्ते के अंदर मांगी स्थिति रिपोर्ट

-खबर लिखने तक विश्‍व की कुल जनसंख्‍या 7,716,632,365 बिलियन यानी 770 करोड़ हो चुकी है। चीन (142 करोड़) विश्‍व की सबसे ज्‍यादा जनसंख्‍या वाला देश है, जबकि भारत (135 करोड़) दूसरे और अमेरिका (32.67 करोड़) तीसरे नंबर पर है।

– रिपोर्ट के मुताबिक नाइजीरिया, भारत, कांगो का लोकतांत्रिक गणराज्य, इथियोपिया, पाकिस्तान, तंजानिया, संयुक्त राज्य अमेरिका, युगांडा और इंडोनेशिया जैसे देश 2017 से 2050 तक जनसंख्या वृद्धि के लिए सबसे अधिक योगदान देंगे। इसके हिसाब से दुनिया की आधी आबादी 9 देशों में रहेगी।

यह भी पढ़ें…वर्ल्ड कप 2019: इंडिया को हराने के बाद धोनी पर केन विलियमसन ने दिया बड़ा बयान

-हैरान करने वाली बात यह है कि नाइजीरिया में जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। फिलहाल, नाइजीरिया जनसंख्या के मामले में 7वें नंबर पर है, लेकिन अगर वहां जनसंख्या को कंट्रोल नहीं किया गया तो 2050 से पहले वो तीसरे नंबर पर आ जाएगा।

-तथ्यों को देखें तो दुनिया में बुजुर्गों की संख्या लगातार बढ़ रही है। विश्व में युवा कम हैं और बुजुर्ग बढ़ गए हैं। माना जा रहा है कि 2050 तक ये संख्या और बढ़ेगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि 1950 में युवाओं की संख्या बुजुर्गों से ज्यादा थी।