×

आतंकी हमले में मुस्लिमों की मौत पर चुप्पी क्यों : ओवैसी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 13 Feb 2018 1:57 PM GMT

आतंकी हमले में मुस्लिमों की मौत पर चुप्पी क्यों : ओवैसी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने जम्मू एवं कश्मीर में सैन्य शिविर पर आतंकवादी हमले में शहीद हुए मुसलमान सैनिकों सहित पांच कश्मीरी मुसलमानों के मारे जाने का हवाला देते हुए मुसलमानों की देशभक्ति पर सवाल उठाने वालों की मंगलवार को आलोचना की और पूछा कि ऐसे लोग इस पर चुप क्यों है। ओवैसी ने कहा, "टेलीविजन पर हर रात नौ बजे मुसलमानों के राष्ट्रवाद पर सवाल उठाया जाता है और कश्मीरियों पर भी सवाल उठाया जाता है।"

उन्होंने कहा, "जम्मू में मारे गए सात लोगों में से पांच कश्मीरी मुसलमान थे। अब हर कोई उनकी मौत पर चुप क्यों है? इस पर ऐसी चुप्पी क्यों है?"

हैदराबाद के सांसद ने कहा कि जो लोग मुसलमानों की निष्ठा पर सवाल उठाते हैं और जो मुसलमानों को पाकिस्तानी कहते हैं, उन्हें इससे सबक लेना चहिए।

ये भी देखें : दस्तगीर की गीदड़ भभकी : भारत को उसी की भाषा में जवाब देंगे

ओवैसी ने कहा, "हम (मुसलमान) अपना जीवन दे रहे हैं, आतंकवादी हमें भी मार रहे हैं क्योंकि वे धर्म के आधार पर किसी के साथ भेदभाव नहीं कर रहे हैं। वे सभी भारतीय मान रहे हैं। लेकिन, देश में ही ऐसे कई लोग हैं, जो अभी भी हमारी निष्ठा पर सवाल उठाते हैं।"

ओवैसी ने सुंजुवान सैन्य शिविर पर आतंकवादी हमले में शहीद हुए छह जवानों और मारे गए एक नागरिक के संदर्भ में यह बात कही।

दस फरवरी को जैश-ए-मुहम्मद के हथियारों से लैस आतंकियों ने इस शिविर पर हमला किया था। एक और जवान का शव मिलने से इस हमले में शहीद होने वाले सैनिकों की संख्या सात हो गई है। हमले छह महिलाओं और बच्चों समेत दस लोग घायल हुए हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story