×

Amarnath Attack: हो गया साबित, हमले में लश्कर का ही हाथ

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 Aug 2017 2:05 PM GMT

Amarnath Attack: हो गया साबित, हमले में लश्कर का ही हाथ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

श्रीनगर : जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने रविवार को कहा कि बीते महीने अमरनाथ तीर्थयात्रियों पर हुए आतंकी हमले को लश्कर-ए-तैयबा ने अंजाम दिया था। इस वारदात के सिलसिले में गिरफ्तार तीन लोगों ने इस बात का खुलासा किया है। कश्मीर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक मुनीर अहमद खान ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बीती 10 जुलाई को बाटेंगो क्षेत्र में तीर्थयात्रियों की बस पर हमले को लश्कर-ए-तैयबा ने अंजाम दिया था। इस हमले में आठ तीर्थयात्रियों की मौत हो गई थी।

खान ने कहा, "आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है और उन्होंने सब कुछ बता दिया है। लश्कर (हमले में) शामिल था और आरोपियों की पहचान हो गई है।"

ये भी देखें:अपनी नई भूमिका में देश की सेवा के लिए तैयार हैं राजीव कुमार

उन्होंने कहा कि गिरफ्तार तीनों लोगों को 'ओवर ग्राउंड वर्कर' कहना सही नहीं होगा। इसके बजाए उन्हें 'मिलिटेंट विदआउट वेपन' कहना सही होगा।

खान ने कहा कि पहले नौ जुलाई को हमला करने की योजना थी। लेकिन, उस दिन कोई वाहन ऐसा नहीं था जो यात्रियों को लेकर अलग-थलग जा रहा हो।

उन्होंने कहा, "लश्कर से जुड़े पाकिस्तानी आतंकवादी इस्माइल ने दो अन्य पाकिस्तानी आतंकवादियों और लश्कर के एक स्थानीय आतंकवादी की मदद से इस हमले को अंजाम दिया।"

ये भी देखें:यूपी के इस सरकारी स्कूल में एडमिशन के लिए लगती है लाइन, जानिए क्यों

खान ने कहा कि इन सभी की मदद करने वालों की पहचान कर ली गई है।

उन्होंने कहा कि आतंकियों ने यात्रियों को ले जाने वाले वाहन के लिए कोडवर्ड 'शौकत' और सीआरपीएफ के वाहन के लिए 'बिलाल' कोडवर्ड का इस्तेमाल किया था।

पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि कुछ दिन पहले लश्कर के दो आतंकी मारे गए हैं। यात्रियों पर हमले के मामले में यह दोनों शामिल थे या नहीं, इसकी अभी जांच चल रही है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story