×

दिल्ली के CM केजरीवाल की चोरी हुई नीली कार गाजियाबाद से बरामद

aman

amanBy aman

Published on 14 Oct 2017 4:53 AM GMT

दिल्ली के CM केजरीवाल की चोरी हुई नीली कार गाजियाबाद से बरामद
X
दिल्ली के CM केजरीवाल की चोरी हुई कार तीन दिन बाद गाजियाबाद से बरामद
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की चोरी हुई 'बहुचर्चित' कार आखिरकार बरामद हो गई। पुलिस ने कार को गाजियाबाद से बरामद किया है। दिल्ली के सीएम की यह कार गाजियाबाद के मोहननगर से मिली है।

दरअसल, गुरुवार को चोर ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की निजी नीली वैगनआर कार पर हाथ साफ कर दिया था। केजरीवाल की यह कार अति सुरक्षित माने जाने वाले दिल्ली सचिवालय के बाहर से चोरी हुई थी। कार चोरी की रिपोर्ट आईपी स्टेट थाने में दर्ज कराई गई थी।

ये भी पढ़ें ...दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल की कार सचिवालय के सामने से चोरी

कई ऐतिहासिक मौकों पर किया था इस्तेमाल

अरविंद केजरीवाल ने कई ऐतिहासिक मौकों पर इस कार का इस्तेमाल किया। एक समय इस कार को लेकर भी उनसे कई सवाल किए गए थे। दिल्ली में विधानसभा चुनाव जीतने के बाद जब केजरीवाल पहली बार सीएम बने तो वो इसी कार से दफ्तर पहुंचे थे।

हर वैगन आर कार की हो रही थी जांच

बता दें, कि यह नीली वेगनआर कार अरविंद के लिए काफी खास है। केजरीवाल इसी कार से पहली बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने रामलीला मैदान गए थे। केजरीवाल की कार की तलाश में पुलिस ने दिल्ली-एनसीआर में गहन जांच अभियान चला रखा था। हर वैगन आर कार की खास तौर अपर जांच की जा रही थी।



aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story