×

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से बाहर निकाले गए सलमान नदवी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 11 Feb 2018 8:52 AM GMT

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से बाहर निकाले गए सलमान नदवी
X
नदवी की नई पहल: राम मंदिर का विवाद अब मानव कल्याण बोर्ड सुलझाएगा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

हैदराबाद : आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य मौलाना सलमान नदवी को हैदराबाद में चल रही बोर्ड बैठक में कड़े विरोध के बाद बोर्ड से बाहर निकाल दिया गया है।

ये है पूरा मामला :

श्री श्री रविशंकर से मुलाकात के दौरान बाबरी मस्जिद स्थानांतरित किये जाने पर सहमति जताने के बाद उलेमा व अवाम के निशाने पर आए आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य मौलाना सलमान नदवी को हैदराबाद में चल रही बोर्ड बैठक में कड़े विरोध का सामना करना पड़ा। जिसके बाद मौलाना सलमान ने अपने बयान पर कायम रहने की बात कहते हुए बोर्ड बैठक से किनारा कर लिया। बोर्ड के पदाधिकारियों ने मौलाना नदवी के खिलाफ कार्रवाई का मत बनाते हुए पूरे प्रकरण की जांच के लिए चार सदस्यीय कमेटी का गठन किया है।

शुक्रवार से हैदराबाद में शुरू हुए मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के 26वें जलसा तहफ्फजु शरीयत (शरीयत की हिफाजत) के तीन दिवसीय कार्यक्रम के पहले चरण में मौलाना सलमान नदवी शामिल हुए लेकिन उन्हें अपने बाबरी मस्जिद से संबंधित बयान के लिए बोर्ड सदस्यों के आक्रोश का सामना करना पड़ा। बोर्ड में हो रही फजीहत के चलते मौलाना नदवी ने बैठक से किनारा कर लिया और शनिवार को हुई दूसरे चरण की बैठक में भाग नहीं लिया।

देवबंद से हैदराबाद में हो रही बोर्ड बैठक में भाग लेने के लिए पहुंचे एक सदस्य ने बताया कि नदवी के बयान पर उलमा ने सख्त नाराजगी दिखाते हुए उनके बयान की कड़े शब्दों में निंदा की।

जिम्मेदारों का कहना था कि नदवी के बयान से बोर्ड की फजीहत हुई है। साथ ही मुस्लिमों में बोर्ड के प्रति गलत संदेश पहुंचा है। जबकि पर्सनल लॉ बोर्ड अपनी बात पर अडिग है कि बाबरी मस्जिद का मामले में कोई समझौता नहीं हो सकता, इस पर कोर्ट को ही अपना फैसला सुनाना पड़ेगा। बताया कि बैठक में शामिल अन्य सदस्यों ने दो टूक यह मांग की कि इस गैर जिम्मेदाराना व्यवहार के लिए मौलाना नदवी के लिए कार्यवाही होनी ही चाहिए। जिसके बाद बोर्ड द्वारा चार सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया। जो नदवी के बयान की जांच कर अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। जिसके आधार पर ही मौलाना नदवी के संबंध में फैसला लिया जाएगा। हालांकि अपने बयान को लेकर विवादों में घिरे मौलाना सलमान नदवी ने भी अपने खिलाफ बने माहौल को भांपते हुए पूरी तरह मुखालफत का मन बना लिया है।

बोर्ड बैठक से किनारा करने के बाद मौलाना नदवी ने एक टीवी चैनल को इंटरव्यू दिया और अपने बयान पर कायम रहने की बात कहते हुए बोर्ड के पदाधिकारियों पर जमकर आरोप लगाए। मौलाना नदवी के खुलकर बोर्ड के सामने आने के बाद अब उनके खिलाफ क्या कार्यवाही होती है यह जानने के लिए इस्लामिक जगत की नजरें बोर्ड की आज होने वाली अंतिम चरण की बैठक पर टिक गई हैं।

नदवी हुए बोर्ड के खिलाफ, जमकर लगाए आरोप

बाबरी मस्जिद को स्थानांतरित करने पर सहमति की बात करने के बाद मीडिया की सुखिर्यो में आए नदवतुल उलेमा लखनऊ के शेखुल हदीस मौलाना सलमान नदवी अब खुलकर बोर्ड व उसके फैसले के खिलाफ आ गए हैं। एक टीवी चैनल को दिये साक्षात्कार में मौलाना नदवी ने बोर्ड के जिम्मेदारों पर संगीन आरोप लगाए। इतना ही नहीं उन्होंने यह तक कह डाला कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड सभी मुसलमानों का प्रतिनिधित्व करने वाला संगठन नहीं है। बोर्ड पर कुछ लोगों का वर्चस्व कायम है। मौलाना ने सभी हदें पार करते हुए यह तक आरोप लगा डाला कि बोर्ड संघ परिवार के इशारे पर काम कर रहा है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story