×

लालू को मिला मांझी का साथ, NDA से अलग हो महागठबंधन में हुए शामिल

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से नाराज चल रहे हिन्‍दुस्‍तानी आवाम मोर्चा (हम) के अध्‍यक्ष जीतनराम मांझी अब लालू प्रसाद यादव के साथ होंगे। राजद अध्‍यक्ष लालू प्रसाद यादव के पुत्र व बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्‍वी यादव और पूर्व मंत्री उनके भाई तेजप्रताप यादव ने मांझी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद मांझी ने महागठबंधन में शामिल होने का ऐलान कर दिया।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 28 Feb 2018 11:55 AM GMT

लालू को मिला मांझी का साथ, NDA से अलग हो महागठबंधन में हुए शामिल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

पटना: राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से नाराज चल रहे हिन्‍दुस्‍तानी आवाम मोर्चा (हम) के अध्‍यक्ष जीतनराम मांझी अब लालू प्रसाद यादव के साथ होंगे। राजद अध्‍यक्ष लालू प्रसाद यादव के पुत्र व बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्‍वी यादव और पूर्व मंत्री उनके भाई तेजप्रताप यादव ने मांझी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद मांझी ने महागठबंधन में शामिल होने का ऐलान कर दिया।

बुधवार (28 फरवरी) की सुबह तेजस्‍वी यादव और तेजप्रताप यादव राजद नेता भोला यादव के साथ जीतनराम मांझी से मिलने उनके आवास पर पहुंचे। वहां करीब एक घंटे की बैठक के बाद जीतनराम मांझी ने यह घोषणा कर दी, कि वे राजद से अलग हो रहे हैं। वे महागठबंधन में जाएंगे।

मांझी मेरे पिता तुल्‍य

इस मुलाकात के बाद तेजस्‍वी यादव ने कहा, कि 'जीतनराम मांझी बिहार के बड़े नेता हैं। वे दलितों-पिछड़ों के नेता हैं। उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री रहते हुए काफी सराहनीय काम किया है। मांझी लगातार दलितों और पिछड़ों की अावाज उठाते रहे हैं।' तेजस्‍वी ने कहा, कि मांझी उनके लिए पिता तुल्‍य व अभिभावक हैं। अब वे साथ आ गए हैं। महागठबंधन में उन्‍हें हमेशा सम्‍मान मिलेगा। एनडीए में सहयोगी दलों का सम्‍मान नहीं किया जाता है। जब देश में ही इमरजेंसी लागू है तो ऐसे में समझा जा सकता है कि गठबंधन में क्‍या हाल होगा।'

ये कहा राबड़ी ने

राबड़ी देवी ने कहा, कि 'जीतनराम मांझी का महागठबंधन में स्‍वागत है। मांझी को एनडीए में बेइज्‍जत किया जा रहा था। उनकी किसी बात को नहीं माना जाता था। वे वहां घुटन महसूस कर रहे थे। अब वे हमारे साथ आ गए हैं। यहां उन्‍हें सम्‍मान मिलेगा। मांझी जी और हमारी विचारधारा एक समान है।'

कांग्रेस ने कहा- देर से लिया दुरुस्त फैसला

बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्‍यक्ष कौकब कादरी के महागठबंधन में शामिल होने के फैसले का स्‍वागत किया है। कहा, कि 'मांझी जी ने देर से लेकिन दुरुस्त फैसला लिया है। वे महागठबंधन विचारधारा के हैं। एनडीए गठबंधन ने सिर्फ मांझी का दोहन किया है। आने वाले समय में रालोसपा भी महागठबंधन में शामिल होगा।'

बीजेपी नेता भी मांझी के संपर्क में

सूत्रों के अनुसार, मांझी और तेजस्‍वी के बीच बंद कमरे में हुई बैठक में हिन्दुस्तान अवाम पार्टी को विधान परिषद चुनाव में दो सीटें देने की बात कही गई है। मांझी ने एक सीट प्रदेश अध्‍यक्ष वृषिण पटेल तथा दूसरा सीट अपने बेटे संतोष मांझी के लिए मांगी है। दूसरी ओर, जीतनराम मांझी के महागठबंधन में जाने की घोषणा के बावजूद इसके औपचारिक एलान में अभी देर है। पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने कहा कि मांझी को मना लिया जाएगा। कुछ अन्‍य बीजेपी नेताओं ने कहा कि वे मांझी के संपर्क में हैं।

बच्चा जब तक रोता नहीं, मां उसे दूध नहीं पिलाती

इसके पहले मांझी ने कहा था, कि 'जो पार्टी उनके नेता का राज्यसभा में समर्थन करेगी, उसके साथ आगे की राजनीति का विकल्प खुला हुआ है। बच्चा जब तक रोता नहीं है, तब तक मां उसे दूध नहीं पिलाती है। कुछ ऐसी ही स्थिति राजग में उनकी पार्टी की हो गई है। उन्‍होंने कहा था कि राजग में किसी भी मुद्दे पर उनकी राय नहीं ली जाती है। राजग के कार्यक्रमों में उन्‍हें निमंत्रण तक नहीं दिया जाता है। मगर, हमारी भी सहनशक्ति की हद है।'

पूर्व मंत्री सरफराज आलम भी राजद में

मांझी के पहले जदयू के निलंबित विधायक एवं पूर्व मंत्री सरफराज आलम का भी साथ राजद को मिल चुका है। सरफराज कुछ दिनों पहले राजद में शामिल हुए हैं। सरफराज के पार्टी में आने पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी ट्वीट करके दावा किया था कि जदयू में अभी और टूट होगी। सरफराज ने राजद की सदस्यता ग्रहण करने को घर वापसी बताया था

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story