×

नेता जी बोले- न राजद से दूध मांगा, न बीजेपी से चीनी न चाहिए पंचमेवा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 27 Aug 2018 12:05 PM GMT

नेता जी बोले- न राजद से दूध मांगा, न बीजेपी से चीनी न चाहिए पंचमेवा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

पटना : केंद्र की सत्ता पर काबिज राजग के साथी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा अपने उस बयान से पलट गए, जिसमें उन्होंने कहा था कि 'यदुवंशियों का दूध और कुशवंशियों का चावल मिल जाए तो खीर बढ़िया बन सकती है'।

कुशवाहा ने कहा कि उन्होंने न तो राजद से दूध मांगा है और न ही भाजपा से चीनी मांगी है। कुशवाहा ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा कि उनके बयान का गलत अर्थ निकाला गया। उन्होंने तो सभी समाज का समर्थन मांगा था।

ये भी देखें : ओवैसी की पार्टी बनेगी इन दिग्‍गजों के लिए मुसीबत, ये है एक्‍शन प्‍लान

उन्होंने कहा, "मैंने न राजद से दूध मांगा और न ही भाजपा से चीनी मांगी। हमने सभी समाज से समर्थन मांगा है। मैं तो सामाजिक एकता की बात कर रहा था। किसी जाति या समुदाय को किसी राजनीतिक पार्टी से जोड़ने की कोशिश न करें।"

आपको बता दें, पटना में एक दिन पूर्व एक कार्यक्रम में यादव और कुशवाहा समाज के लोगों को साथ आने की वकालत करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि यदुवंशियों का दूध और कुशवंशियों का चावल मिल जाए तो खीर बढ़िया बन सकती है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा था कि खीर बनाने के लिए दूध और चावल ही नहीं, बल्कि छोटी जाति और दबे-कुचले समाज के लोगों का पंचमेवा भी चाहिए।

इस बयान के बाद समझा जाने लगा था कि कुशवाहा अब राजद गठबंधन में जाने वाले हैं, जिसे लेकर बिहार की राजनीति गर्म हो गई। राजद नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने एक कदम आगे बढ़ाते हुए कुशवाहा के बयान का समर्थन कर दिया।

ये भी देखें : मेघालय: उपचुनाव में विशाल अंतर से जीते मुख्यमंत्री, कांग्रेस हारी

तेजस्वी ने एक ट्वीट में कहा, "नि:संदेह उपेंद्र जी, स्वादिष्ट और पौष्टिक खीर श्रमशील लोगों की जरूरत है। पंचमेवा के स्वास्थ्यवर्धक गुण न केवल शरीर, बल्कि स्वस्थ समतामूलक समाज के निर्माण में भी ऊर्जा देते हैं। प्रेमभाव से बनाई गई खीर में पौष्टिकता, स्वाद और ऊर्जा की भरपूर मात्रा होती है। यह एक अच्छा व्यंजन है।"

वैसे यह कोई पहला मौका नहीं है जब कुशवाहा को राजद के नजदीकी होने के कयास लगाए जा रहे हैं। इससे पहले भी कई ऐसे मौकों पर कुशवाहा, लालू प्रसाद के साथ नजदीकी होने के संकेत देते रहे हैं।



इधर, राजद उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने भी सोमवार को कहा कि बहुत जल्द ही रालोसपा महागठबंधन में शामिल होगी। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की पार्टी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वह भी बहुत जल्द महागठबंधन में आने वाले हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story