×

डेरा हिंसा: CM खट्टर पर से फ़िलहाल टला खतरा, BJP नेतृत्व संतुष्ट

aman

amanBy aman

Published on 26 Aug 2017 7:34 PM GMT

डेरा हिंसा: CM खट्टर पर से फ़िलहाल टला खतरा, BJP नेतृत्व संतुष्ट
X
शाह से मिलने के बाद कांफिडेंट दिखे खट्टर, कहा- जो इस्तीफा मांगता है, वो..
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: हरियाणा में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को यौन शोषण मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद भड़की हिंसा में 30 से अधिक लोगों की मौत हो गई और करीब 250 से अधिक घायल हो गए थे। शुक्रवार को हुए इस हिंसक प्रदर्शन के बाद यह माना जा रहा था कि शायद इसकी गाज सीएम मनोहर लाल खट्टर पर गिर सकती है। लेकिन शनिवार को हालात पर काबू पा लिया गया और खट्टर पर घिरा राजनीतिक संकट फिलहाल टलता दिख रहा है।

ये भी पढ़ें ...संत गुरमीत के शैतान समर्थकों के उत्पात से पंचकूला निवासी CM खट्टर से खफा

वहीं, हरियाणा सरकार की ओर से बेकाबू राम रहीम के समर्थकों पर काफी हद तक नियंत्रण पाने से बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व खुश है। साथ खट्टर सरकार को निर्देश कि वो अब सोमवार की तैयारी पूरी रखें। बता दें, कि सोमवार को ही सीबीआई कोर्ट राम रहीम को सजा सुनाएगी।

ये भी पढ़ें ...डेरा इफेक्ट! कांग्रेस के इस बड़े नेता ने मोदी-खट्टर सरकार को बता डाला नपुंसक

खट्टर से टला खतरा

इस बीच विपक्ष की ओर से केंद्र सरकार पर मनोहर लाल खट्टर के इस्तीफे का दबाव भी बढ़ाया जा रहा है। लेकिन सूत्रों की मानें तो फिलहाल खट्टर पर कोई खतरा नहीं है। खुद प्रदेश प्रभारी और महासचिव अनिल जैन ने कहा, 'राम रहीम की गिरफ्तारी से पहले कोई हिंसा नहीं हुई। बाद में भी सरकार ने सक्रियता से दो-तीन घंटों के अंदर स्थिति को काबू में कर लिया गया। मौत भी उनकी हुई है जो हिंसक भीड़ का हिस्सा थे।' इससे पहले शनिवार को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने हरियाणा के प्रभारी डॉ. अनिल जैन और महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से बातचीत की और हालात की जानकारी ली।

ये भी पढ़ें ...CM खट्टर बोले- ट्रेन, बसों सबको रोका, पता नहीं कैसे पहुंच गए डेरा समर्थक

खट्टर को नहीं भेजा गया कोई बुलावा

अनिल जैन ने यह भी स्पष्ट किया कि शीर्ष नेतृत्व से खट्टर को कोई बुलावा नहीं भेजा गया है। दरअसल, ऐसे वक्त में जब मुख्यमंत्री का राज्य में होना जरूरी है, नेतृत्व स्थिति सामान्य होने तक उन्हें दिल्ली बुलाकर कोई अड़चन पैदा नहीं होने देना चाहता है। हालांकि, खट्टर को यह सुनिश्चित करना होगा कि आगे कोई हिंसा न भड़के।

ये भी पढ़ें ...हरियाणा हिंसा पर किरण बेदी का ट्वीट, खट्टर को नसीहत तो ‘न्यू इंडिया’ पर तंज

खट्टर के कदम से नेतृत्व सहमत

सूत्रों की मानें, तो पार्टी अध्यक्ष खट्टर को हटाने के बारे में नहीं सोच रहे हैं। इसकी वजह यह है कि खट्टर ने राम रहीम के मामले को जिस तरह से संभाला है, उसमें पार्टी आलाकमान की भी सहमति थी। पार्टी भी नहीं चाहती थी, कि डेरा समर्थकों के साथ पहले से किसी तरह की सख्ती बरती जाए।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story