×

वाड्रा के हथियार डीलर से संबंध, चुप्पी तोड़े कांग्रेस : कह रही है BJP

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 17 Oct 2017 3:32 PM GMT

वाड्रा के हथियार डीलर से संबंध, चुप्पी तोड़े कांग्रेस : कह रही है BJP
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को कांग्रेस से पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा और हथियारों के डीलर संजय भंडारी के संबंधों को लेकर जवाब मांगा। रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने वाड्रा और हथियारों के डीलर जो फिलहाल फरार होकर ब्रिटेन में है, के बीच के संबंधों को लेकर मीडिया में आई रिपोर्टो का हवाला देते हुए कहा, "वाड्रा मामले को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चुप क्यों हैं?"

भंडारी ऑफसेट इंडिया सोल्युशंस नाम की एक रक्षा सलाहकार कंपनी चलाता था, जिस पर स्विटजरलैंड की कंपनी पिलाटस के लिए जेट ट्रेनर के सौदे में रिश्वत लेने का आरोप है।

ये भी देखें: सोनिया के दामाद रॉबर्ट वाड्रा की बढ़ी मुश्किलें, CBI ने शुरू की जांच

भंडारी-वाड्रा संबंधों का खुलासा करनेवाली नवीनतम मीडिया रिपोर्ट में समाचार चैनल टाइम्स नाउ ने दावा किया है कि उसके पास ऐसे ईमेल हैं, जिससे साबित होता है कि दोनों के बीच घने संबंध हैं।

चैनल ने दावा किया है कि भंडारी ने साल 2012 के अगस्त में वाड्रा के लिए 8 लाख रुपये की एमिरेट्स फ्लाइट्स की टिकटें खरीदीं थीं।

कांग्रेस ने टाइम्स नाउ की रिपोर्ट पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

निर्मला ने कहा, "कांग्रेस नेतृत्व की चुप्पी यह जाहिर करती है वे इसे जानते हैं।"

उन्होंने कहा कि दोनों के बीच संबंधों का पता लगाना सीबीआई जैसी जांच एजेंसियों का काम है। वह केवल कांग्रेस से इस मामले पर चुप्पी तोड़ने को कह रही हैं।

निर्मला ने कहा, "मैंने उनके बीच संबंध नहीं जोड़ रही हूं। उनके बीच के संबंधों का पता लगाना गृह मंत्रालय और सीबीआई का काम है।"

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story