×

गुनाह का हिसाब ! बलात्कारी बाबा को 10-10 साल की सजा, रो पड़ा गुरमीत

रेप केस में पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद सोमवार को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम को 20 साल की सजा सुनाई गई।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 28 Aug 2017 9:58 AM GMT

गुनाह का हिसाब ! बलात्कारी बाबा को 10-10 साल की सजा, रो पड़ा गुरमीत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

रोहतक : 15 साल पुराने रेप केस में शुक्रवार को पंचकूला की विशेष सीबीआई कोर्ट द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद सोमवार (28 अगस्त) को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को उनके गंभीर अपराध के लिए सश्रम 10-10 साल की सजा सुनाई गई। डेरा प्रमुख के खिलाफ दायर रेप के दो मामलों में सुनाई गई जेल की दोनों सजाएं एक के बाद एक लगातार कुल 20 साल तक चलेंगी। बता दें, कि गुरमीत राम रहीम पर आईपीसी की धारा 376, 509, 511 के तहत दोषी करार दिया गया था। डेरा प्रमुख अपनी दो पूर्व शिष्याओं के रेप के दोषी है।

कोर्ट ने राम रहीम पर 30 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। जुर्माने की इस राशि में से प्रत्येक पीड़िता को 14 लाख रुपए दिए जाएंगे।

रोहतक की सोनारिया जेल में बंद राम रहीम को सजा सुनाने के लिए जेल के ही लाइब्रेरी रूम में कोर्ट बनाया गया था। यह जेल रोहतक से 10 किलोेमीटर दूर है। सोनारिया जेल में राम रहीम कैदी नंबर 1997 हैं। विशेष सीबीआई जज जगदीप सिंह ने सुनारिया जेल में 2:30 बजे से कोर्ट की कार्यवाही शुरू की। कोर्ट की सुनवाई तकरीबन 1 घंटे चली। सजा सुनाए जाने के बाद राम रहीम को जेल में बैरक और कैदी के कपड़े भी एलाॅट कर दिए गए।

रो पड़ा बलात्कारी बाबा, मांगी रहम की भीख

कोर्ट में दोनों पक्षों (सीबीआई (अभियोजन पक्ष) और बचाव पक्ष) को जिरह के लिए 10-10 मिनट का समय दिया गया था। कोर्ट की कार्यवाही शुरू होते ही बलात्कारी बाबा के आंखों में आंसू आ गए। वह जज जगदीप के सामने हाथ जोड़कर कर खड़े रहा और रहम की भीख मांगता रहा। सजा सुनाए जाने के बाद राम रहीम कोर्ट रूम के फर्श पर गिरकर बिलख-बिलख कर रोने लगा। वह कोर्ट छोड़कर जाने के लिए तैयार नहीं था। उन्हें जबरन बाहर लाया गया। बता दें कि जब राम रहीम को दोषी करार दिया गया था तब भी वह जज के सामने हाथ जोड़कर कर खड़ा था।

यह भी पढ़ें ... दामाद का आरोप- मुंहबोली बेटी के साथ भी हैं राम रहीम के गलत रिश्ते

अभियोजन पक्ष ने क्या कहा ?

-सीबीआई ने कोर्ट से कहा कि बाबा राम रहीम का अपराध जघन्य है।

-सीबीआई ने कोर्ट से राम रहीम को अधिकतम सजा देने की मांग की की अपील की।

बचाव पक्ष ने क्या कहा ?

-राम रहीम के वकील ने कहा कि बाबा सोशल वर्कर हैं।

-वे लोगों की भलाई के लिए काम करते हैं।

-उन्होंने स्वच्छता अभियान और रक्त दान में भी योगदान दिया।

-जज को रहम दिखानी चाहिए।

-राम रहीम की जेल बदलने की भी मांग की।

यह भी पढ़ें ... जवाब यहां है ! बलात्कारी बाबा के बाद कौन संभालेगा डेरा की सल्तनत ?

फैसले से पहले मेंडिकल चेकअप

-रोहतक में कोर्ट की कार्यवाही शुरू होने से पहले राम रहीम का मेडिकल चेकअप किया गया।

-सुनारिया जेल पहुंचकर डॉक्टर्स ने राम रहीम का मेडिकल चेकअप किया।

अब आगे क्या?

बचाव पक्ष के वकीलों का कहना है कि सीबीआई की स्पेशल कोर्ट से सजा पाए राम रहीम के खिलाफ अब वह हाईकोर्ट में अपील करेंगे।

उम्रकैद की सजा मिलनी चाहिए थी

बाबा गुरमीत राम रहीम के घिनौने काम को उजागर करने वाले पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के बेटे अंशुल छत्रपति ने कहा कि राम रहीम का गुनाह बहुत बड़ा और जघन्य है। कोर्ट ने जो सजा दी है वह कम है लेकिन स्वागत योग्य है। उन्होंने कहा कि ऐसे केस में राम रहीम को उम्रकैद की सजा मिलनी चाहिए। बता दें कि पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के मर्डर का केस भी राम रहीम के ऊपर है। इस केस की भी सुनवाई होनी बाकी है।

यह भी पढ़ें ... सिरसा: सजा से पहले ही भड़के ‘बलात्कारी बाबा’ के गुंडे, फूंकी 2 गाड़ियां

सजा के बाद हिंसा

राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद हरियाणा के सिरसा में फूल्का गांव में डेरा समर्थकों ने 2 कार में आग लगा दी।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों की 23 कंपनियों ने रोहतक के अंदर और बाहर और सुनारिया जेल के ईदगिर्द बहुस्तरीय सुरक्षा का घेरा बनाया गया।

इसके साथ ही सेना को भी अलर्ट पर रखा गया। जेल के आसपास किसी भी संदिग्ध को देखते ही गोली मारने के आदेश दिए गए।

यह भी पढ़ें ... पंचकूला: पुलिस ने बताया- डेरा समर्थकों को फोन से मिले थे हिंसा करने के निर्देश

रोहतक, सिरसा सहित कई जिलों में स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं। मोबाइल इंटरनेट सेवाए ठप्प कर दी गई हैं। रोहतक को छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

दोष सिद्ध होते ही हुआ था जमकर बवाल

25 अगस्त को राम रहीम को साध्वी से रेप के केस में दोषी ठहराया था। इसके बाद हरियाणा-पंजाब समेत 5 राज्यों में डेरा समर्थकों ने हिंसा और आगजनी शुरू कर दी। जिसमें 30 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी और सैंकड़ों की संख्या में लोग घायल हुए थे।

यह भी पढ़ें ... #RamRahim: यह पहला मामला, जब अदालत जेल में ही सुनाई गई सजा

डेरा समर्थकों ने पब्लिक और प्राइवेट प्रॉपर्टी का भी काफी नुकसान किया था। इसके बाद पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाते हुए डेरा की संपत्तियों को बेचकर नुकसान की भरपाई करने का सरकार को आदेश दिया था।

यह भी पढ़ें ... रंगीले बाबाओं के बुरे दिन! राम रहीम के बाद आसाराम को कोर्ट से झटका

कौन है बाबा राम रहीम?

-साल 1948 में शाह मस्ताना महाराज ने डेरा सच्चा सौदा की स्थापना की थी।

-मस्ताना महाराज के बाद डेरा की गद्दी शाह सतनाम महाराज को मिली।

-इसके बाद 1990 में गुरमीत सिंह को गद्दी मिली।

-गुरमीत का नाम बदल कर संत गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां कर दिया गया।

-गुरमीत राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के गांव गुरुसरमोडिया के मूल निवासी हैं।

-राम रहीम ने कई फिल्मों में अभिनय भी किया।

-उन्हें मैसेंजर ऑफ गॉड भी कहा जाता है।

यह भी पढ़ें .... #RamRahim को अदालत से भगाने की फिराक में थे सुरक्षा कर्मी?

कौन हैं जज जगदीप ?

-रेप केस में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सजा सुनाने वाले जज का नाम जगदीप सिंह है।

-उन्हें पिछले साल ही सीबीआई के स्पेशल जज बनाया गया था।

-जगदीप ने 2012 में हरियाणा जुडिशल सर्विसेज में जॉइन किया था।

-उनकी पहली जॉइनिंग सोनीपत में हुई थी।

सीबीआई कोर्ट में इनकी एंट्री हाईकोर्ट एडमिनिस्ट्रेशन की कड़ी निगरानी में हुई।

-ये उनकी दूसरी पोस्टिंग है।

-इसी पोस्टिंग में राम रहीम के ऊपर फैसला सुना दिया है।

-पंजाब यूनिवर्सिटी से 2002 में लॉ ग्रैजुएट करने वाले जगदीप लंबे समय तक सिविल और क्रिमिनल वकील रहे हैं।

यह भी पढ़ें .... क्या आपने पढ़ी साध्वी की वो चिट्ठी, जिसके बाद राम रहीम पर कसा शिकंजा

मददगार जज

जगदीप उस समय चर्चा में आये थे जब सितंबर, 2016 में हिसार में सड़क पर घायल लोगों की मदद के लिए वह रुके और एंबुलेंस को कॉल किया। काफी देर तक जब एंबुलेंस नहीं आई तो उन्होंने खुद ही अपनी गाड़ी में घायलों को जींद के हॉस्पिटल में एडमिट करवाया। जगदीप को बेहद क्षमतावान और अनुशासित व्यक्ति मन जाता है।

यह भी पढ़ें ... CBI जज जगदीप ने जीत लिया दिल, ट्वीट कर बोले यूजर्स- जज की जय हो !

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story